Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

जर्जर स्थिति में है अररिया को सुपौल से जोड़ने वाली यह सड़क, दर्जनों पंचायत प्रभावित

बारिश होने से इस जर्जर सड़क पर जल-जमाव की स्थिति पैदा हो जाती है। बगल में बने नाले का पानी भी सड़क पर आ आता है, जिससे स्थिति और भी बदतर बन जाती है। इस सड़क पर पलासी, रिवाही, फतेहपुर, रामघाट, पिथौरा, बड़हरा, तामगंज आदि गांव अवस्थित हैं।

ved prakash Reported By Ved Prakash |
Published On :

बिहार के अररिया जिले के फारबिसगंज प्रखंड स्थित रामपुर पंचायत की यह सड़क बहुत जर्जर स्थिति में है। थोड़ी सी बारिश में ही स्थिति बदतर हो जाती है। यह सड़क लगभग 18 किलोमीटर लंबी है और अररिया जिले के नरपतगंज को सुपौल जिले के छातापुर से जोड़ती है। दर्जनों पंचायत के लोग इस रास्ते से आते-जाते हैं।

हजारों की संख्या में रोजाना लोग इस सड़क से गुज़रते हैं। रामपुर पंचायत के पूर्व मुखिया मो. अशफाक़ ने बताया कि यहां के लोगों ने कई बार प्रशासनिक अधिकारियों से इस सड़क पर ध्यान देने की अपील की, पर कोई फायदा नहीं हुआ। उन्होंने आगे बताया कि यह एक मुस्लिम बहुत क्षेत्र है, शायद इसलिए यह सड़क नहीं बन रही है।

Also Read Story

पूर्णिया: लगातार हो रही बारिश से नदी कटाव ज़ोरों पर, कई घर नदी में विलीन

अमौर के लालटोली रंगरैया में एक साल के अन्दर दोबारा ढह गया पुल का अप्रोच

अब बिहार के सहरसा में गिरा पुल, आनन फ़ानन में करवाया गया मरम्मत

कटिहार: वैसागोविंदपुर की पांच हज़ार से अधिक आबादी चचरी पुल पर निर्भर

धंसा गया किशनगंज का बांसबाड़ी पुल, बिहार में 10 दिनों के अन्दर चौथा पुल हादसा

किशनगंज में बिजली की लचर व्यवस्था से एक हफ्ते से चाय फैक्ट्रियां बंद

किशनगंज: तीन दिनों से पासपोर्ट सेवा केंद्र ठप, विभागीय लापरवाही से बढ़ी आवेदकों की मुसीबत

किशनगंज में ठप हुई बिजली व्यवस्था, जिले के अलग अलग क्षेत्रों में लोगों का प्रदर्शन  

पूर्णिया: रुपौली के बलिया घाट पर पुल नहीं होने से पांच लाख की आबादी चचरी पुल पर निर्भर 

बारिश होने से इस जर्जर सड़क पर जल-जमाव की स्थिति पैदा हो जाती है। बगल में बने नाले का पानी भी सड़क पर आ आता है, जिससे स्थिति और भी बदतर बन जाती है। इस सड़क पर पलासी, रिवाही, फतेहपुर, रामघाट, पिथौरा, बड़हरा, तामगंज आदि गांव अवस्थित हैं।


स्थानीय ग्रमीण मो. सरफ़राज़ बताते हैं कि सड़क की जर्जर स्थिति से इलाके के लोग आम दिनों में तो परेशान होते ही हैं, लेकिन, बारिश आ जाने के बाद स्थिति बद से बदतर हो जाती है। सबसे ज्यादा दिक्कत स्कूल जाने वाले छोटे बच्चों और बीमार लोगों को होती है।

बारिश के दिनों में लोगों को लंबी दूरी तय कर फारबिसगंज प्रखंड मुख्यालय व अररिया जिला मुख्यालय आना-जाना पड़ता है। रामपुर गांव के पिंटू कुमार गुप्ता बताते हैं कि अभी बारिश शुरू हुई है तो यह हाल है, पता नहीं जब अधिक बारिश होगी तो क्या हाल होगा?

राष्ट्रीय जनता दल के अररिया जिला अध्यक्ष मनीष यादव ने बताया कि इलाके के लोगों के लिए यह एक मुख्य सड़क है और इस सड़क से रोजाना हजारों की संख्या में लोग आवागमन करते हैं। उन्होंने प्रशासन से मांग करते हुए कहा कि जल्द से जल्द इस सड़क का निर्माण कराया जाए, वरना वह अनशन पर बैठ जायेंगे।

वहीं, सड़क की जर्जर स्थिति को लेकर फारबिसगंज विधायक विद्या सागर केशरी केशरी ने फोन पर बताया कि सड़क की मरम्मती को लेकर दिया गया प्रस्ताव पास हो गया है और नवंबर से सड़क की मरम्मत शुरू हो जाएगी।

सीमांचल की ज़मीनी ख़बरें सामने लाने में सहभागी बनें। ‘मैं मीडिया’ की सदस्यता लेने के लिए Support Us बटन पर क्लिक करें।

Support Us

अररिया में जन्मे वेद प्रकाश ने सर्वप्रथम दैनिक हिंदुस्तान कार्यालय में 2008 में फोटो भेजने का काम किया हालांकि उस वक्त पत्रकारिता से नहीं जुड़े थे। 2016 में डिजिटल मीडिया के क्षेत्र में कदम रखा। सीमांचल में आने वाली बाढ़ की समस्या को लेकर मुखर रहे हैं।

Related News

किशनगंज के इस गांव में बिजली के लटकते तारों से वर्षो से हैं ग्रामीण परेशान

2017 की बाढ़ में क्षतिग्रस्त हुआ किशनगंज का मझिया पुल दे रहा हादसों को दावत

न सड़क, न पर्याप्त क्लासरूम – मूलभूत सुविधाओं से वंचित अररिया का यह प्लस टू स्कूल

“हमलोग डूबे रहते हैं, हमें कोई नहीं देखता” सालों से पुल की आस में हैं इस महादलित गांव के लोग

किशनगंज: शवदाह गृह निर्माण में घटिया सामग्री प्रयोग करने का आरोप, जांच की मांग

सहरसा: पुल निर्माण में हो रही देरी से ग्रामीण आक्रोशित, जलस्तर बढ़ने से बढ़ा खतरा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest Posts

Ground Report

अररिया में भाजपा नेता की संदिग्ध मौत, 9 दिन बाद भी पुलिस के हाथ खाली

अररिया में क्यों भरभरा कर गिर गया निर्माणाधीन पुल- ग्राउंड रिपोर्ट

“इतना बड़ा हादसा हुआ, हमलोग क़ुर्बानी कैसे करते” – कंचनजंघा एक्सप्रेस रेल हादसा स्थल के ग्रामीण

सिग्नल तोड़ते हुए मालगाड़ी ने कंचनजंघा एक्सप्रेस को पीछे से मारी टक्कर, 8 लोगों की मौत, 47 घायल

किशनगंज के इस गांव में बढ़ रही दिव्यांग बच्चों की तादाद