Thursday, October 6, 2022
- Advertisement -spot_img

TAG

Floods in Bihar

बाँध काटकर बाढ़ को दावत दे रहा है बालू माफिया

किशनगंज से लगभग सात किलोमीटर दुरी पर स्थित है गाछपाड़ा पंचायत और इसी गांव होकर गुजरती है महानंदा और डोंक नदी। राज्य सरकार ने दोनों नदियों से ग्रामीणों की जान माल की रक्षा करने के लिए करोड़ों रुपये खर्च कर बांध का निर्माण करवाया था। लेकिन चंद पैसे की लालच में बालू माफिया इसी पंचायत के खाड़ी बस्ती के समीप बांध को काटकर अवैध तरीके से बालू ढुलाई के लिए रास्ता बना दिया है जिससे नदी किनारे बसे ग्रामीणों को डर सता रहा है की वर्ष 2017 की भांति पुन बाढ़ की स्थिति उत्पन्न ना हो।

दरभंगा में जुगाड़ नाव पर अस्पताल पहुंचाई गई गर्भवती

दरभंगा में एक गर्भवती महिला को अचानक पेट में दर्द शुरू हुआ, दर्द से महिला का बुरा हाल हो रहा था लेकिन पूरा गांव पानी में डूबा हुआ है। ऐसे में ग्रामीणों ने ट्यूब से एक जुगाड़ नाव बनाई और महिला और उसकी माँ को बिठाकर अस्पताल पहुंचाया, जहां डॉक्टर ने उसका इलाज किया।

बिहार: मुख्य सड़क के क़रीब बसे इस टापूनुमा गाँव को नाव तक नसीब नहीं

बिहार में बाढ़ अभी नहीं आयी है। लेकिन, बारिश के पानी से ही जगह-जगह बाढ़ जैसे हालात हैं। ये पूर्णिया ज़िले में नेशनल हाईवे...

बेशर्म किशनगंज नगर परिषद और रॉयल एनफील्ड शोरूम वालों की बदमाशी

किशनगंज शहर के पश्चिम पाली मेन रोड पर जल जमाव से राहगीर परेशान हैं। इमली गोला चौक से लेकर पश्चिम पाली चौक तक जलजमाव से...

पूर्णिया: मानसून की पहली बारिश में ही कटाव का दंश झेलने पर मजबूर बायसी

जल आपदा के आदी हो चुके पूर्णिया ज़िले के बायसी अनुमंडल की जनता मानसून की पहली बारिश में कटाव का दंश झेलने पर मजबूर है। सात नदियों से घिरे बायसी में महानंदा, परमान और कनकई नदी के कटाव ने कई गांवों पर अपना असर दिखाना शुरू कर दिया है।

खुले आसमान के नीचे शरण लिए हुए हैं 150 परिवार

https://www.youtube.com/watch?v=uxa3972O2m0 किशनगंज अंतर्गत कोचाधामन के बगलबारी पंचायत के लगभग 150 परिवार महानंदा ब्रिज के नीचे खुले आसमान के नीचे शरण लिए हुए हैं। जिला मुख्यालय...

खुले आसमान के नीचे शरण लिए हुए हैं 150 परिवार

कोचाधामन के बगलबारी पंचायत के लगभग 150 परिवार महानंदा ब्रिज के पास खुले आसमान के नीचे शरण लिए हुए हैं। जिला मुख्यालय से सटे...

Latest news

- Advertisement -spot_img