कानून व्यवस्था को लेकर बिहार सरकार पर लगातार आरोप लगा रहे विपक्ष पर बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने पलटवार किया है। सुशील मोदी ने सीधे विपक्षी नेता और पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी से पूछा है कि पिछले साल नाबालिग से रेप और सेक्स रैकेट चलाने का आरोपी RJD विधायक अरुण यादव को उन्होंने कहाँ छिपा रखा है।

जिसके जवाब में RJD के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से आज जवाब देते हुए लिखा गया, “बेहया आदमी! पुलिस तुम्हारी, शासन तुम्हारा, और पूछ रहे पूर्व मुख्यमंत्री से। क्या तुम्हारी सरकार, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, गृहमंत्री, डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय, BJP-JDU और तुम स्वयं निकम्मे, नकारा, नालायक, नाकाबिल हो? ज़रा “जेसी जॉर्ज” से भी पूछ लेता सृजन चोर? क्या पता उसे पता हो?”

राबड़ी देवी से सवाल पूछने को लेकर तिलमिलाई RJD ने सुशील मोदी की पत्नी जेसी जॉर्ज का नाम लिखते हुए कहा कि उनसे पूछिए, क्या पता वो जानती हों।

राबड़ी देवी से सवाल पूछने के दौरान सुशील मोदी ने आरोप लगाया कि बालू माफिया अरुण यादव लालू यादव और राबड़ी देवी का बेहद करीबी हैं, उसने 2017 में लालू यादव की मां के नाम पर बने ‘मरछिया देवी कमर्शियल काम्प्लेक्स’ के 5 फ्लैट को 2.56 करोड़ रुपए देकर खरीद लिए थे ताकि उनके काले धन को सफेद किया जा सके। रेप के आरोपी विधायक का लालू परिवार से सिर्फ राजनीतिक नहीं बल्कि कारोबारी संबंध भी है।

सुशील मोदी ने आरोप लगाते हुए कहा कि RJD अपराधियों और बलात्कारियों को संरक्षण देने वाली पार्टी है इसीलिए राजवल्लभ यादव, मोहम्मद शहाबुद्दीन की पत्नियों और अलकतरा घोटाले में सज़ायाफ्ता इलियास हुसैन के परिजनों को टिकट देकर चुनाव लड़वाती है।

दरअसल, जुलाई 2019 में RJD विधायक अरुण यादव पर नाबालिग से बलात्कार और सेक्स रैकेट चलने के आरोप लगे। नाबालिग बच्ची ने 164 के तहत बयान दर्ज कराया लेकिन तब से ही विधायक गायब है। पॉक्सो कोर्ट ने विधायक को फरार घोषित कर रखा है लेकिन कुर्की-जब्ती के बावजूद अभी तक पुलिस विधायक का पता नहीं लगा पाई है।