Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

किशनगंज: दैनिक जागरण से आक्रोशित लोगों ने अखबार जलाकर जताई नाराज़गी

दैनिक जागरण ने पिछले महीने ‘सीमांचल का सच’ नाम से तीन खबरों की एक शृंखला छापी थी। इनमें सीमांचल में मुस्लिम आबादी के बढ़ने और हिन्दू परिवारों के पलायन करने का दावा किया गया था।

syed jaffer imam Reported By Syed Jaffer Imam |
Published On :

दैनिक जागरण ने पिछले महीने ‘सीमांचल का सच’ नाम से तीन खबरों की एक शृंखला छापी थी। इनमें सीमांचल में मुस्लिम आबादी के बढ़ने और हिन्दू परिवारों के पलायन करने का दावा किया गया था। पहली खबर में किशनगंज के दिघलबैंक और कटिहार के बरारी प्रखंड के कई गांवों में बांग्लादेशी घुसपैठ बढ़ने और हिन्दू परिवारों के गांव छोड़ने का दावा किया गया था। ‘मैं मीडिया’ ने उन तमाम गांवों और कस्बों का दौरा किया, जहां दैनिक जागरण के अनुसार अवैध बांग्लादेशी देशी नागरिकों की घुसपैठ हो रही थी और हिन्दू परिवार अपना घर-बार छोड़ने पर मजबूर हो रहे थे।

ग्राउंड जीरो पर जाकर ‘मैं मीडिया’ ने ग्रामीणों से बात की और जो सच सामने निकल कर आया, वह हैरतअंगेज़ था। दैनिक जागरण के दावों को स्थानीय लोगों ने सिरे से खारिज कर दिया था। मैं मीडिया की पड़ताल में दैनिक जागरण की खबर में लिखे गए कई गांव और पंचायत के नाम ग़लत और फ़र्ज़ी निकले। ‘मैं मीडिया’ की पड़ताल वाली इस खबर को सीमांचल के हज़ारों लोगों ने देखा और पढ़ा।

Also Read Story

असर: ‘मैं मीडिया’ की खबर वायरल होने के बाद बंगाल के स्कूल में पहली मंज़िल पर चढ़ने के लिए बनायी गयी सीढ़ी

खबर का असर: जर्जर हो चुके किशनगंज के राजकीय कन्या मध्य विद्यालय में भवन निर्माण शुरू

BPSC TRE-2: उर्दू-बांग्ला अभ्यर्थियों के लिये आया बड़ा अपडेट, पास होने के लिये इतने नंबर जरूरी

‘मैं मीडिया’ की खबर के बाद BPSC सचिव से मिले राजद MLC – “उर्दू-बंग्ला अभ्यर्थियों के लिये क्वालीफ़ाईंग पेपर बाधा नहीं होगा”

IMPACT: “BPSC TRE-2 के भाषा (अहर्ता) पेपर में गैर-हिंदी (उर्दू-बंगला) उम्मीदवारों को चिंता करने की जरूरत नहीं”

खबर का असर: किशनगंज के मदीना मार्किट के पास पड़े कूड़ों की सफाई शुरू

IMPACT: आयु सीमा में छूट विकल्प को लेकर अभ्यर्थियों को फॉर्म एडिट करने की आवश्यकता नहीं

IMPACT: किशनगंज की मुख्य सड़क पश्चिम पल्ली-मारवाड़ी कॉलेज रोड की मरम्मत शुरू

IMPACT: बहादुरगंज के समेश्वर उप-स्वास्थ्य केंद्र की हुई मरम्मत, सप्ताह मे तीन दिन बैठने लगे डॉक्टर

मैं मीडिया की पड़ताल के बाद दैनिक जागरण के खिलाफ लोगों में गुस्सा दिख रहा है। किशनगंज के कोचाधामन प्रखंड के अलता हाट इलाके में कुछ लोगों ने दैनिक जागरण अखबार को जलाकर इसका बहिष्कार करने का ऐलान कर दिया।


अखबार जलाने वालों में किशनगंज की कमलपुर पंचायत के मंसूरा गांव निवासी और खुद को समाजसेवी बताने वाले अफ़्फ़ान यज़दानी ने ‘मैं मीडिया’ को बताया कि वह और कुछ और युवकों ने अलता हाट में दैनिक जागरण की झूठी रिपोर्ट के विरोध में सांकेतिक प्रदर्शन किया।

उन्होंने दैनिक जागरण अखबार जलाने का कारण बताते हुए कहा, ‘दैनिक जागरण ने जो खबर छापी है और जिसका खुलासा मैं मीडिया ने किया है, उस खबर से पता चलता है कि दैनिक जागरण ने नफरती और फेक न्यूज़ रिपोर्ट की है। घुसपैठी और पलायन की झूठी खबर के अलावा सीमांचल के बच्चों के बारे में लिखा गया कि यह बच्चे स्कूल मिड डे मील खाने जाते हैं और पढ़ाई मदरसा में करते हैं। यह नफरती और फेक न्यूज़ है। इसमें छुपा हुआ एक संदेश है जो साफ़ समझ आ रहा है।”

“यह ऐसा इलाक़ा है, जहां कभी दंगे नहीं हुए, जहां कभी हिन्दू मुसलमान के बीच नफरत नहीं हुई। कभी दो समुदायों में तनाव नहीं हुआ। दैनिक जागरण ने एक नापाक कोशिश की है इसलिए हमने एक सांकेतिक विरोध के तौर पर पेपर को जलाया,” उन्होंने कहा।

अफ़्फ़ान यजदानी ने आगे बताया कि वह किसी पार्टी से नहीं जुड़े हैं और उनके साथ अखबार जलाने वाले युवा भी किसी पार्टी से ताल्लुक नहीं रखते। उन्होंने कहा कि सीमांचल की आवाम अमनपसंद है और यह इलाक़ा गंगा जमना तहज़ीब की मिसाल है।

“मैं तमाम उन लोगों से अपील करता हूँ जो आपसी सौहार्द और शान्ति को समझते है़ और उसको सुरक्षित रखना चाहते हैं कि इस तरह ख़बरों और ऐसे विचारों के खिलाफ लोकतान्त्रिक तरीके से आवाज़ उठाइये, जो दो समुदायों के बीच तकरार पैदा करने की कोशिश करे,” अफ़्फ़ान कहते हैं।

किशनगंज के शहरी इलाके में भी दैनिक जागरण की खबर से आक्रोशित लोगों ने अखबार जलाकर अपना विरोध जताया। शेख मोहम्मद साबिर नामक एक युवा ने कहा, “मैं ‘मैं मीडिया’ का शुक्रगुज़ार हूँ कि ‘मैं मीडिया’ ने वहां जाकर लोगों से बात कर सच को सामने लाने का काम किया। यह तो साफ़ ज़ाहिर है कि ऐसा जान बूझ कर सीमांचल में आपसी सौहार्द को बिगाड़ने के लिए किया गया है। एक राष्ट्रीय अखबार को ऐसा नहीं होना चाहिए। हम सरकार और प्रशासन से मांग करते हैं कि ऐसे झूठ फैलाने वाले रिपोर्टर और अखबार वालों पर कार्रवाई हो।”

सीमांचल की ज़मीनी ख़बरें सामने लाने में सहभागी बनें। ‘मैं मीडिया’ की सदस्यता लेने के लिए Support Us बटन पर क्लिक करें।

Support Us

सैयद जाफ़र इमाम किशनगंज से तालुक़ रखते हैं। इन्होंने हिमालयन यूनिवर्सिटी से जन संचार एवं पत्रकारिता में ग्रैजूएशन करने के बाद जामिया मिलिया इस्लामिया से हिंदी पत्रकारिता (पीजी) की पढ़ाई की। 'मैं मीडिया' के लिए सीमांचल के खेल-कूद और ऐतिहासिक इतिवृत्त पर खबरें लिख रहे हैं। इससे पहले इन्होंने Opoyi, Scribblers India, Swantree Foundation, Public Vichar जैसे संस्थानों में काम किया है। इनकी पुस्तक "A Panic Attack on The Subway" जुलाई 2021 में प्रकाशित हुई थी। यह जाफ़र के तखल्लूस के साथ 'हिंदुस्तानी' भाषा में ग़ज़ल कहते हैं और समय मिलने पर इंटरनेट पर शॉर्ट फिल्में बनाना पसंद करते हैं।

Related News

अररिया: पत्रकार विमल यादव हत्याकांड का मुख्य साजिशकर्ता रूपेश पुलिस रिमांड में

IMPACT: पोठिया के आमबाड़ी में बनेगी 3 किलोमीटर लंबी सड़क

मदरसा अज़ीज़िया के पुनर्निर्माण के लिए बिहार सरकार देगी 30 करोड़ रुपए

जलजमाव पर ख़बर प्रसारित होने के दूसरे दिन ही सड़क की मरम्मत शुरू

किशनगंज: अपहृत डीलर तमीजुद्दीन सकुशल बरामद

किशनगंज: नाबालिग से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में 2 गिरफ्तार

बिहार: स्कूलों के लिए जारी नई अवकाश तालिका रद्द

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest Posts

Ground Report

क़र्ज़, जुआ या गरीबी: कटिहार में एक पिता ने अपने तीनों बच्चों को क्यों जला कर मार डाला

त्रिपुरा से सिलीगुड़ी आये शेर ‘अकबर’ और शेरनी ‘सीता’ की ‘जोड़ी’ पर विवाद, हाईकोर्ट पहुंचा विश्व हिंदू परिषद

फूस के कमरे, ज़मीन पर बच्चे, कोई शिक्षक नहीं – बिहार के सरकारी मदरसे क्यों हैं बदहाल?

आपके कपड़े रंगने वाले रंगरेज़ कैसे काम करते हैं?

‘हमारा बच्चा लोग ये नहीं करेगा’ – बिहार में भेड़ पालने वाले पाल समुदाय की कहानी