Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

सिलीगुड़ी में नैरोबी मक्खी का आतंक, किशनगंज में भी खतरा

Main Media Logo PNG Reported By Main Media Desk |
Published On :

देश में कोरोना की चौथी लहर के बीच पश्चिम बंगाल के सिलीगुड़ी और सिक्किम में नैरोबी मक्खी (Nairobi Fly) ने अपना आतंक मचा रखा है। बिहार के किशनगंज जिले से पश्चिम बंगाल के सिलीगुड़ी के सटे होने से यहां भी इस मक्खी का खतरा मंडरा रहा है।

नैरोबी मखी पूर्वी अफ्रीका के दो कीड़ों की प्रजातियां पीडरस एक्सीमायस और पीडरस सबियस से सम्बंधित है। इसे केन्यन मखी या ड्रैगन बग्स भी कहा जाता है, ये नारंगी और काले रंग के होते हैं और ज़्यादा वर्षा वाले क्षेत्रों में पनपते हैं।

Also Read Story

धूल फांक रहे पीएम केयर फंड से अररिया सदर अस्पताल को मिले 6 वेंटिलेटर

नल-जल योजना: पाइप बिछा दिया, पानी का पता नहीं

कमर भर पानी से होकर गर्भवती महिलाओं की जांच को जाती हैं एएनएम नीलम

एक दशक पहले बने स्वास्थ्य केंद्र में आज तक नहीं आया डॉक्टर

बिहार के डेढ़ दर्जन औषधीय महत्व के पौधे विलुप्ति की कगार पर

पूर्णिया: जीएमसीएच में मरीजों की चादर धोने तक की सुविधा नहीं

डेंगू को लेकर स्वास्थ्य विभाग अलर्ट पर : तेजस्वी यादव

एमडी मैम! लड़कियां पीरियड में अब भी करती हैं कपड़े का इस्तेमाल

कटिहार: कदवा प्रखंड के गांव-गांव में देखा जा रहा लम्पी वायरस का लक्षण

नैरोबी मक्खी को लेकर किशनगंज स्वास्थ्य विभाग अलर्ट

इसको लेकर किशनगंज स्वास्थ्य विभाग अलर्ट है। बताया जाता है कि इस नैरोबी मक्खी का प्रकोप सिलीगुड़ी में बहुत तेजी से बढ़ रहा है। यह मक्खी पहाड़ों से होते हुए सिलीगुड़ी शहर तक पहुंच गयी है। इसके फैलने की रफ्तार बहुत तेज है। चींटी की तरह दिखने वाला यह कीड़ा काफी खतरनाक हैं। इसने सिलीगुड़ी के सैकड़ों लोगों को संक्रमित कर दिया है।


nairobi makhi

मक्खी के संक्रमण से संक्रमण की जगह खुजली होने लगती है और जख्म के निशान बन जाते हैं। इस जख्म के भरने में कम से कम एक हफ्ता लगता है।

यहां यह भी बता दें कि यह मक्खी फसलों में लगने वाले कीड़ों को अपना शिकार बनाती है, इस लिहाज से यह किसानों के लिए फायदेमंद है लेकिन जब यह मनुष्य के संपर्क में आती है, तो लोगों को संक्रमण कर देती है।

ये मक्खी काटती नहीं है, बल्कि शरीर पर बैठने से जहरीला तरल पदार्थ छोड़ती है जिससे लोगो की त्वचा में चलन और जगह जगह पर इंफेक्शन हो जाता है।


यह भी पढ़ें: लाइफलाइन एक्सप्रेस ट्रेन कटिहार में दे रही स्वास्थ्य सेवा

यह भी पढ़ें: नैरोबी मक्खी क्या है?


चिकित्सकों का कहना है कि अगर मक्खी शरीर पर बैठे या चिपके तो उसे छूना नहीं चाहिए। छूने पर या इसे मसलने से यह एसिड जैसा जहरीला पदार्थ छोड़ता है, जिसे पेडरिन नाम से जाना जाता है। यह बहुत हानिकारक होता है। पेडरिन के त्वचा के सम्पर्क में आने से यह रासायनिक जलन पैदा करता है। आंखों को मसलते वक्त अगर यह खतरनाक पेडरिन आंखों तक पहुंच जाता है तो कुछ देर के लिए संक्रमित व्यक्ति अंधेपन में भी चला जाता है।

nairobi fly

भाजपा विधान पार्षद डॉ दिलीप कुमार जायसवाल ने कहा कि अगर यह जहरीली मक्खी किशनगंज में पैर पसार देती है तो बहुत लोगों को हानि पहुंच सकती है। उन्होंने जिला प्रशासन से कहा कि जांच करवा लेना चाहिए कि मक्खी किशनगंज पहुंची है कि नहीं और फिर त्राहिमाम संदेश केंद्र और बिहार सरकार को भेजने की जरूरत है।

सभी अस्पतालों को अलर्ट कर दिया गया : किशनगंज सिविल सर्जन

किशनगंज सिविल सर्जन ने कहा कि सभी अस्पतालों को अलर्ट कर दिया गया है। उन्होंने लोगों को सलाह देते हुए कहा कि अगर शरीर पर इसके बैठने या चिपकने का किसी को पता चलता है तो इसे धीरे से फूंक मारकर उड़ा देना चाहिए या फिर ब्रश कर इस एसिड फ्लाई को हटा देना चाहिए। इसके बाद त्वचा को साबुन पानी से अच्छे से साफ कर लेना चाहिए।

वहीं, नगर परिषद के कार्यपालक पदाधिकारी दीपक कुमार ने इस जहरीली मक्खी के आक्रमण को शहर में रोकने के लिए शहर में साफ सफाई की व्यवस्था करने और ब्लीचिंग का छिड़काव करने की बात कही।


‘गोरखालैंड’ का जिन्न फिर बोतल से बाहर


बिना एनओसी बना मार्केट 15 साल से बेकार, खंडहर में तब्दील


सीमांचल की ज़मीनी ख़बरें सामने लाने में सहभागी बनें। ‘मैं मीडिया’ की सदस्यता लेने के लिए Support Us बटन पर क्लिक करें।

Support Us

Main Media is a hyper-local news platform covering the Seemanchal region, the four districts of Bihar – Kishanganj, Araria, Purnia, and Katihar. It is known for its deep-reported hyper-local reporting on systemic issues in Seemanchal, one of India’s most backward regions which is largely media dark.

Related News

किशनगंज: नशे के दलदल में फँसकर बर्बाद होती नौजवान पीढ़ी

नैरोबी मक्खी क्या है?

लाइफलाइन एक्सप्रेस ट्रेन कटिहार में दे रही स्वास्थ्य सेवा

सीमांचल में क्यों बदहाल है स्वास्थ्य व्यवस्था

नीति आयोग की रिपोर्ट से स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय नाराज़

नीतीश सरकार ने एक दिन में कोरोना से मरने वालों का आकड़ा 4 हजार तक बढ़ाया?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latests Posts

Ground Report

जर्जर भवन में जान हथेली पर रखकर पढ़ते हैं कदवा के नौनिहाल

ग्राउंड रिपोर्ट: इस दलित बस्ती के आधे लोगों को सरकारी राशन का इंतजार

डीलरों की हड़ताल से राशन लाभुकों को नहीं मिल रहा अनाज

बिहार में क्यों हो रही खाद की किल्लत?

किशनगंज: पक्की सड़क के अभाव में नारकीय जीवन जी रहे बरचौंदी के लोग