प्रेम प्रसंग, शादी या अपहरण। बिहार के अभिजीत कुमार दास और मेघा शर्मा के परिवारों के बीच 2017 से ये सिलसिला चला आ रहा है। दोनों परिवार एक दूसरे पर केस करते जाते हैं और मामला उलझता जाता है। लड़का अभिजीत दास का कहना है चार साल पहले गुड़गाँव में मेघा से उसकी शादी हुई थी, लेकिन मेघा शर्मा कहती है नशे की हालत में उसका अपहरण किया गया था।

मामला बिहार के किशनगंज टाउन थाना क्षेत्र का है। बुधवार 2 जून को लड़का पक्ष के लोग लड़की के घर पहुँच गए, जिसके बाद हाई वोल्टेज ड्रामा हुआ। दोनों परिवार के बीच जमकर बवाल हुआ, मामला इतना बढ़ गया कि दोनों परिवार हाथापाई पर उतर गए।

हंगामे के बीच लोगों की भीड़ इकट्ठा हो गयी और लोगों ने पुलिस को इस घटना की सूचना दी। इसके बाद मौके पर पुलिस पहुंचकर युवक अभिजीत को अपने साथ थाना लेकर चली गयी।

युवक अभिजीत का कहना है कि मेरी शादी मेघा शर्मा से 4 वर्ष पूर्व हो चुकी है। शादी दोनों की रजामंदी से हुई थी। मां बाप और परिवार के दवाब में मेघा शर्मा जबरन शादी करने का मुझपर आरोप लगा रही है और शादी से मुकर रही है। मगर हकीकत है कि दोनों ने राजी मन से शादी की थी। अगर मेघा को मेरे साथ नही रहना है, तो मुझे तालाक दे दे। मेरी जिंदगी क्यों बरबाद की जा रही है।

युवती मेघा ने बताया कि 4 वर्ष पूर्व युवक नींद और नशे में उसे दिल्ली लेकर चला गया था। दिल्ली पहुंचकर किशनगंज पुलिस टीम वापस किशनगंज लाई। किशनगंज आने के बाद 7 दिनों तक थाने में रखा गया मेघा ने शादी से इनकार करते हुए आरोप लगाया है कि जबरन केस मुकदमा युवक द्वारा करवाकर दवाब बनाया जा रहा है।

लड़के की माँ आलो दास मानती है की लड़की अपने ही परिवार के दबाव में है और अभिजीत को खबर भेज कर बचाने की गुहार लगाती है। साथ ही उनका कहना की मामला जल्द ख़त्म हो ताकि हम आगे बढ़ सकें।

वहीं युवती मेघा के पिता गोपाल शर्मा का कहना है कि अगर मेरी बेटी उस युवक के साथ जाना चाहे तो मैं गाजे बाजे के साथ भेज दूंगा, परन्तु घर मे आकर मारकाट मचाकर और केस मुकदमा कर युवक और उसके परिवार, दोस्तों द्वारा दवाब बनाने की कोशिश की जा रही है।