Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

लाइफलाइन एक्सप्रेस ट्रेन कटिहार में दे रही स्वास्थ्य सेवा

Aaquil Jawed Reported By Aaquil Jawed |
Published On :

लाइफलाइन एक्सप्रेस नाम की एक ट्रेन इन दिनों कटिहार में है। संभवतः यह दुनिया की पहली हॉस्पिटल ट्रेन है जिसमें ओपीडी से लेकर ऑपरेशन थिएटर तक सारी सुविधाएं उपलब्ध हैं। कई तरह के अत्याधुनिक चिकित्सा उपकरण खासकर शल्य चिकित्सा से जुड़े उपकरण के साथ सुसज्जित लाइफ लाइन एक्सप्रेस ट्रेन पिछले दिनों बारसोई स्टेशन पर लोगों को सेवा दे रही थी।

10 जून से 29 जून तक इम्पैक्ट इंडिया द्वारा संचालित यह ट्रेन बारसोई रेलवे स्टेशन पर ही रुक कर लोगों को स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध करवा रही थी।

Also Read Story

धूल फांक रहे पीएम केयर फंड से अररिया सदर अस्पताल को मिले 6 वेंटिलेटर

नल-जल योजना: पाइप बिछा दिया, पानी का पता नहीं

कमर भर पानी से होकर गर्भवती महिलाओं की जांच को जाती हैं एएनएम नीलम

एक दशक पहले बने स्वास्थ्य केंद्र में आज तक नहीं आया डॉक्टर

बिहार के डेढ़ दर्जन औषधीय महत्व के पौधे विलुप्ति की कगार पर

पूर्णिया: जीएमसीएच में मरीजों की चादर धोने तक की सुविधा नहीं

डेंगू को लेकर स्वास्थ्य विभाग अलर्ट पर : तेजस्वी यादव

एमडी मैम! लड़कियां पीरियड में अब भी करती हैं कपड़े का इस्तेमाल

कटिहार: कदवा प्रखंड के गांव-गांव में देखा जा रहा लम्पी वायरस का लक्षण

लाइफलाइन एक्सप्रेस में सुविधाएं लाजवाब

लाइफ लाइन एक्सप्रेस में अपना और अपनी पत्नी का इलाज करवा चुके अमरनाथ मिश्रा एक खेतिहर मजदूर हैं। उन्होंने बताया कि इलाज काफी अच्छा हो रहा है और सुविधाएं लाजवाब हैं। बारसोई की धरती पर पहली बार इतनी बेहतरीन चीज आई है।


सरकारी अस्पताल की सुविधाओं के बारे में पूछने पर अमरनाथ मिश्रा ने बताया कि बारसोई में सरकारी अस्पताल में इस ट्रेन जैसी सुविधा देने के लिए कई जन्म लेना पड़ेगा। हो सकता है पोता या परपोता देख ले।

दिल्ली के राम मनोहर लोहिया अस्पताल में एसोसिएट प्रोफेसर प्लास्टिक सर्जन डॉ मुकेश कुमार बताते है कि बारसोई में कटे-फटे होंठ वाले बच्चे बहुत आ रहे हैं, जिनका हम मुफ्त में सर्जरी कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि कटे फटे होंठ होने से बच्चों को समाज में सामान्य बच्चों जैसी प्रतिष्ठा नहीं मिल पाती है और मां-बाप के लिए यह दुखदाई होता है।बहुत लोगों को नहीं पता है कि इसका इलाज किया जा सकता है और वे बच्चे भी सामान्य जीवन जी सकते हैं।

ओपीडी संभाल रहे मुंबई से आये ऑर्थोपेडिक सर्जन डॉक्टर संतोष ने बताया कि बारसोई एक पिछड़ा क्षेत्र है, यहां पर हम लोग सिर्फ 10 परसेंट मरीजों तक ही पहुंच रहे हैं जो नाकाफी है। गरीब मरीज बहुत आ रहे हैं और इतने कम समय में हर किसी का इलाज संभव नहीं है। उन्होंने जोर देते हुए कहा कि यहां पर हर महीने एक मेडिकल कैंप जरूर होना चाहिए, चाहे वह सरकार की तरफ से हो या किसी प्राइवेट संगठन की तरफ से, ताकि गरीबों का कल्याण हो सके।

रूरल एरिया में काम करती है लाइफलाइन एक्सप्रेस

डॉ प्रवीण बेंजामिन बताते हैं कि लाइफलाइन एक्सप्रेस रूरल एरिया में काम करती है क्योंकि भारत का रेलवे नेटवर्क बहुत अच्छा है और हम देहात क्षेत्र में भी पहुंच कर स्वास्थ्य सुविधा दे सकते हैं। उन्होंने बताया कि इसमें काम करने वाले सभी वॉलिंटियर डॉक्टर्स हैं जो मुफ्त में सेवा देते हैं।

लाइफलाइन एक्सप्रेस के प्रोजेक्ट मैनेजर पुनीत शर्मा ने बताया कि बारसोई रेलवे स्टेशन पर यह ट्रेन इम्पैक्ट इंडिया फाउंडेशन, बिहार सरकार, भारत सरकार और कटिहार प्रशासन के सहयोग से 10 जून से लेकर 29 जून तक लोगों को सेवा देगी। उन्होंने बताया कि यहां पर स्वास्थ्य सुविधा से जुड़ी सारी चीजें मुफ्त में उपलब्ध कराई जाती हैं। यहां तक कि रहने और खाने की भी सुविधा लाइफ लाइन एक्सप्रेस द्वारा की गई है।


सीमांचल में कागजों पर प्रतिबंधित मैनुअल स्कैवेंजिंग

Purnea Airport: किसानो ने कहा – जान दे देंगे, लेकिन जमीन नहीं


सीमांचल की ज़मीनी ख़बरें सामने लाने में सहभागी बनें। ‘मैं मीडिया’ की सदस्यता लेने के लिए Support Us बटन पर क्लिक करें।

Support Us

Aaquil Jawed is the founder of The Loudspeaker Group, known for organising Open Mic events and news related activities in Seemanchal area, primarily in Katihar district of Bihar. He writes on issues in and around his village.

Related News

किशनगंज: नशे के दलदल में फँसकर बर्बाद होती नौजवान पीढ़ी

नैरोबी मक्खी क्या है?

सिलीगुड़ी में नैरोबी मक्खी का आतंक, किशनगंज में भी खतरा

सीमांचल में क्यों बदहाल है स्वास्थ्य व्यवस्था

नीति आयोग की रिपोर्ट से स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय नाराज़

नीतीश सरकार ने एक दिन में कोरोना से मरने वालों का आकड़ा 4 हजार तक बढ़ाया?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latests Posts

Ground Report

जर्जर भवन में जान हथेली पर रखकर पढ़ते हैं कदवा के नौनिहाल

ग्राउंड रिपोर्ट: इस दलित बस्ती के आधे लोगों को सरकारी राशन का इंतजार

डीलरों की हड़ताल से राशन लाभुकों को नहीं मिल रहा अनाज

बिहार में क्यों हो रही खाद की किल्लत?

किशनगंज: पक्की सड़क के अभाव में नारकीय जीवन जी रहे बरचौंदी के लोग