Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

किशनगंज शहर की कभी न ठीक होने वाली मुख्य सड़क

Main Media Logo PNG Reported By Main Media Desk |
Updated On :

यह बिहार के किशनगंज शहर की कभी न ठीक होने वाली सड़क है। लहरा चौक से पश्चिम पाली चौक के बीच मारवाड़ी कॉलेज के करीब इस सड़क पर सैकड़ों गड्ढे हैं।

वैसे तो ये गड्ढे साल के 12 महीने शहर आगमन पर आपका स्वागत करते मिल जाएंगे, लेकिन ज़रा सी बारिश होने पर ये गड्ढे ऐसा विकराल रूप धारण कर लेते हैं, जिसमें यहाँ के आला अधिकारियों और जनप्रतिनिधियों की ज़मीर आसानी से डूब जाए।

Also Read Story

अररिया शहर में एक भी सार्वजनिक शौचालय नहीं, लोग होते हैं परेशान

मनिहारी: कटान रोधी कार्य है बेअसर, निरंतर घरों को निगल रही गंगा

दो कमरे के स्कूल में चल रहा स्मार्ट क्लास, कक्षाएं और कार्यालय, शौचालय नदारद

पूर्णिया: जीएमसीएच में मरीजों की चादर धोने तक की सुविधा नहीं

दिघलबैंक में गलगलिया-अररिया रेललाइन मुआवज़े का विवाद थमा, निर्माण कार्य को हरी झंडी

स्कूल जर्जर, छात्र जान हथेली पर लेकर पढ़ने को विवश

महानंदा नदी निगल गई स्कूल, अब एक ही भवन में चल रहे दो स्कूल

जीर्णोद्धार की बाट जोह रहा दशकों पहले बना फारबिसगंज का एयरपोर्ट

तीन साल बाद भी बुनियादी सुविधाओं से वंचित पूर्णिया विश्वविद्यालय की लाइब्रेरी

क्या DM, क्या SP, क्या मंत्री, क्या MP, क्या MLA, क्या MLC, क्या पूर्व जनप्रतिनिधि और क्या किशनगंज नगर परिषद की कुर्सी पर बैठने का अरमान रखने वाले नेता… इस सड़क से गुजरे बिना वैसे तो किशनगंज ज़िले में किसी का गुज़ारा नहीं है, लेकिन आज तक किसी साहब की अंतरात्मा को इन गड्ढों ने इतना नहीं झकझोरा कि इस सड़क का कोई परमामेंट इलाज करवाने पर विचार करें।

इस गड्ढा नुमा सड़क के किनारे ही नारियल पानी बेचने वाले मो. नसीरुद्दीन आए दिन यहाँ ई-रिक्शा पलटते देखते हैं। मुख्य सड़क पर बहने वाले गंदे पानी से अलग परेशान हैं।

ई-रिक्शा चलाने वाले रौशन कुमार बताते हैं कि जितनी बार इधर से गाड़ी लेकर गुज़रते है हैं, पलटने का डर लगा रहता है। लोग ई-रिक्शा पर बैठने से डरते हैं और बैठ भी गए तो इन गड्ढों से गुजरने में दुआएं करते हुए गुज़रते हैं कि कहीं गाड़ी पलट न जाए।

चारपहिया गाड़ी चलाने वाले मो. हसनैन बताते हैं, कुछ दिन पहले ही यहाँ एक सड़क हादसा भी हो गया, जिसमें एक बच्चे की मौत हो गई थी।

स्थानीय किशनगंज विधायक इजहारुल हुसैन का निवास स्थान इसी सड़क के करीब है। सड़क के बारे में पूछने पर उन्होंने बताया पथ निर्माण विभाग ने इसका एस्टीमेट बना लिया है और नगर परिषद चुनाव के बाद काम शुरू हो जाएगा।


Fact Check: क्या दुनिया में सबसे ज्यादा बच्चे किशनगंज, अररिया में पैदा होते हैं?

संस्मरण: जब पाकिस्तान के निशाने पर था किशनगंज


सीमांचल की ज़मीनी ख़बरें सामने लाने में सहभागी बनें। ‘मैं मीडिया’ की सदस्यता लेने के लिए Become A Member बटन पर क्लिक करें।

Become A Member

This story has been done by collective effort of Main Media Team.

Related News

बिन बिजली सुविधाओं के चल रही पैरामेडिकल की पढ़ाई

किशनगंज: इस गांव में शादियों के आड़े आ रहा एक अदद सड़क का अभाव

बिजली विभाग के खिलाफ क्यों भूख हड़ताल कर रहे लोग

4 km लंबी कच्ची सड़क, 2022 में इस हाल में गाँव

सरकार बनाएगी सुरजापुरी अकादमी, पर पहले से चल रही अकादमियां खस्ताहाल

सुपौल: करोड़ों रुपए लगने के बावजूद पर्यटक स्थल के रूप में नहीं उभर पाया गणपतगंज मंदिर

एक अदद सड़क को तरस रहा बिहार के किशनगंज का ये गांव

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latests Posts

सहरसा का बाबा कारू खिरहर संग्रहालय उदासीनता का शिकार

Ground Report

स्कूल जर्जर, छात्र जान हथेली पर लेकर पढ़ने को विवश

सुपौल: पारंपरिक झाड़ू बनाने के हुनर से बदली जिंदगी

गैस कनेक्शन अब भी दूर की कौड़ी, जिनके पास है, वे नहीं भर पा रहे सिलिंडर

ग्राउंड रिपोर्ट: बैजनाथपुर की बंद पड़ी पेपर मिल कोसी क्षेत्र में औद्योगीकरण की बदहाली की तस्वीर है

मीटर रीडिंग का काम निजी हाथों में सौंपने के खिलाफ आरआरएफ कर्मी