किशनगंज में सत्ताधारी पार्टी जदयू के ठाकुरगंज के विधायक नौशाद आलम को ग्रामीणों ने सोमवार देर रात बंधक बना लिया। मामला गर्वनडांगा थाना क्षेत्र के बालुबाड़ी गांव का है। ग्रामीणों ने उन्हें चार घंटे तक बंधक बनाए रखा।

जानकारी के अनुसार, सड़क निर्माण में लापरवाही की शिकायत पर विधायक दिघलबैंक प्रखंड के कड़वामनी पंचायत पहुंचे थे। वहां नदी के कटाव निरोधक कार्य को लेकर ग्रामीणों और विधायक के समर्थकों के बीच हाथापाई हो गयी। इसके बाद ग्रामीणों ने विधायक को बंधक बना लिया और कार्रवाई की मांग करने लगे।

मौके पर पहुंची पुलिस

मौके पर मौजूद ग्रामीण ज़फर सादिक़ ने बताया, “नदी के कटाव निरोधक कार्य को लेकर विधायक नौशाद आलम के भांजे तौक़ीर आलम उर्फ़ बिट्टू से कुछ दिन पहले बहस हुई थी। कल जब विधायक क्षेत्र में पहुंचे, तो माजिद आलम कुछ ग्रामीणों के साथ उनसे एक कच्ची सड़क के बारे में पूछताछ कर रहे थे। इसी बीच, बिट्टू ने धारदार हथियार से माजिद पर हमला कर दिया। ग्रामीणों ने बीच-बचाव किया, तो विधायक ने अपने भांजे को वहाँ से भगा दिया। इस घटना से आक्रोशित ग्रामीणों ने विधायक को चार घंटे तक बंधक बनाये रखा। पुलिस के आने पर ग्रामीण, विधायक और उनके भांजे की गिरफ्तारी की मांग करने लगे।”

माजिद आलम ने मैं मीडिया को फ़ोन पर बताया,

कच्ची सड़क को लेकर हमलोग एक प्रदर्शन करने वाले थे। विधायक नौशाद आलम कल अपने समर्थकों के साथ गाँव पहुंचे, तो हमने उस सड़क को लेकर उनसे पूछताछ की, तो उनके भांजे इमरान ने पहले हमारी बातचीत में दखलंदाजी की और दूसरे भांजे तौक़ीर आलम ने मुझ पर हमला कर दिया।

माजिद आलम
माजिद आलम

सूचना मिलते ही मौके पर आस-पास के थानों की पुलिस पहुंची, तब विधायक नौशाद आलम व उनके समर्थक वहाँ से गए।

मैं मीडिया ने कई बार विधायक नौशाद आलम से संपर्क करने की कोशिश की, लेकिन उनका नंबर आउट ऑफ़ रीच आ रहा था। विधायक की तरफ से प्रतिक्रिया आने पर ख़बर अपडेट कर दी जाएगी।