शहर के मारवाड़ी मर्चेंट कमिटी भवन के सभागार में किशनगंज सेवा सदन संस्था के पदाधिकारीयो और ट्रस्ट के सदस्यों के द्वारा एक महत्वपूर्ण बैठक का आयोजन किया गया। इस बैठक में आगामी 2020 मे आयोजित देवघर में श्रावणी मेले के दौरान जल चढ़ाने पहुंचे कावड़ियों को सेवा भाव से और भी बेहतर सुविधा उपलब्ध करवाने को लेकर विस्तार से चर्चा की गयी। एमएमसी के अध्यक्ष प्रमोद बैद ने संस्था के द्वारा धार्मिक कार्यों के साथ-साथ शिक्षा के क्षेत्र में भी काम करने को लेकर प्रस्ताव रखा। जिस प्रस्ताव का सभी सदस्यों ने स्वागत कर फैसला लिया कि जल्द ही मौके पर एक शिक्षा संस्था खोल कर बच्चों को तालीम दी जाएगी।ट्रस्ट के अध्यक्ष हनुमान प्रसाद श्रीमल ने बताया कि हर साल सावन महीने में किशनगंज सेवा सदन द्वारा संचालित केंप में लगभग डेढ़ करोड़ कांवरियों की सेवा की जाती है। किशनगंज सेवा सदन के सदस्यों के द्वारा दिन रात सेवा किया जाता है और कांवरियों को सुबह शाम निशुल्क भोजन चिकित्सा
और ठहरने का भी व्यवस्था किया जाता है। वही ट्रस्ट के सदस्य त्रिलोक चंद जैन ने बताया कि सुलतानगंज से देवघर जाने के रास्ते बांका जिले के कटौरिया गांव मे किशनगंज सेवा सदन द्वारा संचालित निःशुल्क कावड़िया कैंप में बेहतर सुविधा उपलब्ध करने को लेकर चर्चा की गई।उन्होंने बताया कि यह कैंप किशनगंज के लोगों के द्वारा संचालित किया जाता है,एमजीएम मेडिकल कॉलेज के निर्देशक डॉ दिलीप कुमार जायसवाल और समाजसेवी गोबिंद बिहानी का भी इस ट्रस्ट में भरपूर सहयोग समय समय पर मिलते आ रहा है। उन्होंने बताया कि उक्त गांव में स्ट्रीट लाइट नहीं होने से श्रद्धालुओं को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। उन्होंने सरकार से मांग किया कि उक्त रास्ते पर स्ट्रीट लाइट की व्यवस्था किया जाये ताकि रात के अंधेरे में आने जाने वाले श्रद्धालुओं को परेशानियों का सामना नही करना पड़े। इस बैठक में एमजीएम के सचिव जुगल किशोर तोषनीवाल, पूर्व नप अध्यक्ष त्रिलोक चंद्र जैन, मारवाड़ी मर्चेंट्स कमिटी के अध्यक्ष प्रमोद वैद्य, मुकेश साहा,किशनगंज सेवा सदन ट्रस्ट के सचिव शीत प्रसाद,ट्रस्ट के अध्यक्ष हनुमान श्रीमल,कोषाध्यक्ष दिनेश कुचामणिया ,विजय कासनीबाल, सहित दर्जनों सदस्य मौजूद थे।