Lockdown के दौरान गुरुग्राम से अपने पिता को साइकिल पर बिठाकर दरभंगा लाने वाली ज्योति कुमारी पर फ़िल्म बनाने को लेकर विवाद लगातार बढ़ता जा रहा है। ज्योति के पिता मोहन पासवान ने दरभंगा के कमतौल थाना में निर्देशक शाइन कृष्णा और उनके साथी सजीथ नामबियार के खिलाफ धोखाधड़ी और प्रताड़ना का आरोप लगाते हुए FIR दर्ज कराई है।

 

 

 

मोहन पासवान ने शिकायत में कहा है कि ये दोनों 26 जून को उनसे मिलने आये थे और उन्हें गुमराह करते हुए विनोद कापड़ी के साथ पहले से कॉन्ट्रैक्ट साइन किये होने के बावजूद अपने साथ कॉन्ट्रैक्ट साइन करवा लिया। इसके दो हफ़्ते बाद जुलाई में ही उन्होंने शाइन और सजीथ को फ़ोन और WhatsApp के ज़रिए कह दिया था कि चूंकि उन दोनों ने उनके साथ धोखा किया है। इसलिए वे कॉन्ट्रैक्ट को क़ानूनी तौर पर ग़लत मानते हुए रद्द कर रहे हैं और उनके दिए पैसे लौटाना चाहते हैं। हालांकि, तक़रीबन डेढ़ महीने बीत जाने के बावजूद वो उनके लीगल डाक्यूमेंट्स का जवाब नहीं दे रहे हैं।

इतना ही नहीं, मोहन पासवान ने अपनी शिकायत में ये भी लिखा है कि उनकी बच्ची पर बनने वाली फ़िल्म का काम रूक गया है। समाज की तरफ़ से मिल रहे प्रोत्साहन की वजह से उन्हें अपना भविष्य दिख रहा था लेकिन शाइन और सजीथ के धोखे से वे तनाव में हैं और उनकी 15 साल की बच्ची समेत पूरा परिवार मानसिक यातना, प्रताड़ना के दौर से गुजर रहा है क्योंकि वे सब बेहद गरीब दलित परिवार से ताल्लुक रखते हैं।

दरअसल, 27 मई को डायरेक्टर विनोद कापड़ी ने सबसे पहले ज्योति और उनके पिता के साथ फ़िल्म बनाने का कॉन्ट्रैक्ट साइन किया था। इसके लिए ज्योति के पिता मोहन पासवान को विनोद कापड़ी की कंपनी भागीरथी फिल्म्स प्राइवेट लिमिटेड की तरफ से एडवांस भी दिया था। लेकिन 26 जून को wemakefilmz कंपनी की तरफ से शाइन कृष्णा ने भी ज्योति के पिता से फ़िल्म बनाने को लेकर कॉन्ट्रैक्ट साइन करा लिया। जिसको लेकर दोनों कंपनियों के बीच जंग छिड़ गई।

 

 

विनोद कापड़ी ने wemakefilmz को कानूनी नोटिस भी भेजा था।

 

फिल्ममेकर और वरिष्ठ पत्रकार विनोद कापड़ी लगातार दावा कर रहे हैं कि साइकिल गर्ल ज्योति पासवान और उनके परिवार के संघर्ष पर फिल्म बनाने के लिए वे पिता मोहन पासवान के साथ 27 मई को ही करार कर चुके हैं लेकिन इस सबके बावजूद wemakefilmz नाम की कंपनी से जुड़े हुए शाइन कृष्णा और उनके साथी ज्योति के परिवार के साथ फिल्म के लिए अनुबंध करने पहुंचे जो कि पूरी तरह से गैर कानूनी और अवैध है।

अब देखना है कि मोहन पासवान की शिकायत के बाद ज्योति पर फ़िल्म बनने की राह कितनी आसान होती है।