पूर्णिया में सोमवार को नरेन्द्र नारायण यादव,लघु जल संसाधन मंत्री एवं विधि विभाग-सह-प्रभारी मंत्री पूर्णिया जिला की अध्यक्षता में समाहरणालय सभागार में जल-जीवन-हरियाली एवं मानव श्रृखंला के तैयारी को लेकर परामर्श समिति की बैठक आयोजित की गई। इस बैठक में पूर्णिया सांसद संतोष कुमार कुशवाहा, सदर विधायक विजय खेमका, धमदाहा विधायक लेशी सिंह, जिला पदाधिकारी एवं अन्य पदाधिकारी उपस्थित रहे। जिला पदाधिकारी ने बताया कि

19 जनवरी को होने वाले मानव श्रृखंला जिले में 500 कि0मी0 की होगी।

पिछले वर्ष 2018 में यह 396 कि0मी0 की थी। जिला पदाधिकारी ने जानकारी दी कि 31 दिसम्बर तक जितने भी सार्वजनिक जल निकाय है उन्हें अतिक्रमणमुक्त करा दिया जाएगा। सार्वजनिक चापाकल के पास सोखता का निर्माण कराया जाएगा तथा नए जल स्रोतों का निर्माण कराया जाएगा। तो वही मानव श्रृखंला जल-जीवन-हरियाली के साथ दहेज प्रथा निषेध एवं बाल विवाह निषेध पर आधारित होगी। लोगों को जागरूक करने के लिए नुक्कड़ नाटक का आयोजन कला जत्था द्वारा पंचायत स्तर पर 20 दिसम्बर से प्रारंभ किया जाएगा। लघु जल संसाधन मंत्री ने कहा वातावरण में प्रदुषण बढ़ रहा है, जिससे बचाव के लिए अक्षय उर्जा एवं सोलर एनर्जी को बढ़ावा देने के लिए बिहार सरकार 24 हजार 5 सौ करोड़ की राशि खर्च करेगी, जो तीन वर्ष में व्यय होगी। इस दौरान दर विधायक एवं सदस्यों द्वारा सौरा नदी को अतिक्रमणमुक्त कराने का सुझाव दिया गया।