25 फरवरी को Bihar Assembly में NRC के खिलाफ प्रस्‍ताव पारित किया गया। इसके बाद से ही किशनगंज ज़िले के ग्रामीण क्षेत्रों में हो रहे CAA NRC NPR विरोधी धरनों को सिलसिलेवार तौर पर समाप्त किया जा रहा है। कोचाधामन से जदयू विधायक मुजाहिद आलम की मौजूदगी में 28 फरवरी को सोंथा बाजार का धरना खत्म कर दिया गया। हमें जानकारी मिली की, 29 फरवरी को ऐसी ही एक कोशिश बेलवा में भी हुई और उसी दिन बिशनपुर बाजार में धरने को समाहरोपूर्वक समाप्त अथवा स्थगित कर दिया गया।

29 फरवरी को जब बिशनपुर में धरना समाप्त किया जा रहा था तो मैं मीडिया की टीम ने मौके पर पहुँच कर लोगों की राय जानी। स्थानीय लोगों से लेकर स्थानीय नेता धरने को समाप्त करने के पक्ष में नज़र नहीं आये। हालाँकि, इसे स्थगित करने की आम राय के साथ जाने को वो तैयार दिखे।

इसी बीच एक स्थानीय युवा ने हमें बताया की इन धरने को pressurise कर समाप्त करवाया जा रहा है।

इतना ही नहीं CAA NRC NPR विरोधी धरने के लिए जब जदयू विधायक मुजाहिद आलम के हाथों स्थानीय युवाओं को प्रशस्ति पत्र दे कर सम्मानित किया गया, उन्होंने उस पत्र को हमारे कैमरे के सामने फाड़ते हुए कहा, हम इस सम्मान के क़ाबिल नहीं हैं।

वहीं विधायक मुजाहिद आलम ने इन आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया।