Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

मृतक हिंदू की अर्थी मुसलमानों ने उठाई, हिंदू रीति से किया अंतिम संस्कार

हिंदू शख्स की मौत के बाद मुस्लिम समुदाय के लोगों ने चंदा इकट्ठा कर अंतिम संस्कार का इंतजाम किया और अर्थी को अपने कंधों पर उठाकर अंतिम संस्कार के लिए कोसी श्मशान घाट ले गए।

shadab alam Reported By Shadab Alam |
Published On :

कटिहार में हिंदू मुस्लिम एकता की एक अनोखी तस्वीर देखने को मिली है। जहां एक हिंदू शख्स की मौत हो जाने के बाद मुस्लिम समुदाय के लोगों ने चंदा इकट्ठा कर अंतिम संस्कार का इंतजाम किया और अर्थी को अपने कंधों पर उठाकर अंतिम संस्कार के लिए कोसी श्मशान घाट ले गए ।

दरअसल मामला यह है कि 80 वर्षीय कालेश्वर शर्मा कटिहार के पूर्णिया मरंगा निवासी है और लगभग 40 सालों से रामपाड़ा चौक के पास ही रहकर मांग कर अपना गुजर-बसर कर रहे थे। वह कई दिनों से वह बीमार चल रहे थे और मंगलवार को उनका निधन हो गया। निधन के बाद स्थानीय मुस्लिम दुकानदारों ने मिलकर चंदा इकट्ठा किया और उनके अंतिम संस्कार का इंतजाम किया।

Also Read Story

अररिया में डेंगू का प्रकोप, बचाव के लिए कराई जा रही फॉगिंग

अररिया: नियम के विरुद्ध जेसीबी से नाला निर्माण के दौरान नल जल पाइप क्षतिग्रस्त

अररिया रेपकांड: हाईकोर्ट ने मेजर को फांसी की सजा रद्द की, दोबारा होगी ट्रायल

बिहार: फिर बाहर निकला डिप्टी सीएम के संबंधियों को नल-जल के ठेके का जिन्न

चुनाव आयोग ने की सियासी दलों के संग बैठक

नेता भले नीतीश कुमार हैं, लेकिन बीजेपी बने रहना चाहती है बड़ा भाई

सीटों के बंटवारे पर बात नहीं बनी तो महागठबंधन से अलग होकर चुनाव लड़ेंगे वामदल — दीपांकर

बिहार के सीमावर्ती जिला किशनगंज में हुआ पहला Open Mic

खुले आसमान के नीचे शरण लिए हुए हैं 150 परिवार

अंतिम संस्कार कराने वालों में मोहम्मद मुमताज आलम भी शामिल हैं। मुमताज आलम ने बताया कि मृतक के परिजनों से पूछने के बाद वे सभी लोग हिंदू रीति रिवाज से अंतिम संस्कार करवा रहे हैं।


बता दें कि कटिहार के रामपाड़ा में मुसलमानों की बड़ी आबादी है। यहां मुस्लिम समुदाय के लोगों ने हिंदू व्यक्ति के अंतिम संस्कार में बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया और उन्हें अपने कंधों पर पूरे रीति-रिवाज के साथ और गाजे-बाजे के साथ अंतिम संस्कार के लिए श्मशान घाट ले गए। यह सब कर रामपाड़ा के लोगों ने मानवता की अनोखी मिसाल पेश की है जो अब चर्चा का विषय है।

सीमांचल की ज़मीनी ख़बरें सामने लाने में सहभागी बनें। ‘मैं मीडिया’ की सदस्यता लेने के लिए Support Us बटन पर क्लिक करें।

Support Us

सय्यद शादाब आलम बिहार के कटिहार ज़िले से पत्रकार हैं।

Related News

मुख्यमंत्री आगमन के कार्यस्थल में कराई जा रही बाल मजदूरी

सेविका और सहायिका पद के चयन के लिए आमसभा की बैठक

भारत-नेपाल सीमा पर तैनात SSB जवानों ने ग्रामीणों के साथ किया समन्वय बैठक

सुरजापुरी समाज के उत्थान के लिए कार्यक्रम का आयोजन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest Posts

Ground Report

क़र्ज़, जुआ या गरीबी: कटिहार में एक पिता ने अपने तीनों बच्चों को क्यों जला कर मार डाला

त्रिपुरा से सिलीगुड़ी आये शेर ‘अकबर’ और शेरनी ‘सीता’ की ‘जोड़ी’ पर विवाद, हाईकोर्ट पहुंचा विश्व हिंदू परिषद

फूस के कमरे, ज़मीन पर बच्चे, कोई शिक्षक नहीं – बिहार के सरकारी मदरसे क्यों हैं बदहाल?

आपके कपड़े रंगने वाले रंगरेज़ कैसे काम करते हैं?

‘हमारा बच्चा लोग ये नहीं करेगा’ – बिहार में भेड़ पालने वाले पाल समुदाय की कहानी