Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

रुपौली उपचुनाव: पूर्व विधायक शंकर सिंह ने दिया लोजपा (रामविलास) से इस्तीफा, निर्दलीय लड़ेंगे चुनाव 

शंकर सिंह, फ़रवरी 2005 में रुपौली विधानसभा से लोजपा के टिकट पर चुनाव जीते थे, लेकिन नवंबर 2005 में उनकी हार हो गई थी। 2010 में भी शंकर सिंह राजद समर्थित लोजपा के उम्मीदवार बने थे। 2015 में टिकट नहीं मिलने पर उन्होंने निर्दलीय चुनाव लड़ा। 2020 में लोजपा ने उन्हें वापस उम्मीदवार बनाया और 44,494 वोट लेकर दूसरे स्थान पर थे। वहीं प्रतिमा सिंह 2013 में निर्विरोध पूर्णिया जिला परिषद अध्यक्ष बनी थीं।  

Syed Tahseen Ali is a reporter from Purnea district Reported By Syed Tahseen Ali |
Published On :

पूर्णिया: रुपौली के पूर्व विधायक शंकर सिंह ने लोजपा (रामविलास) से इस्तीफा दे दिया है। इसके साथ ही उन्होंने निर्दलीय चुनाव लड़ने की घोषणा भी कर दी है।

शंकर सिंह 20 जून को नामांकन करेंगे। साथ ही उन्होंने कहा, “भविष्य में सीमांचल-कोसी के लिए नयी पार्टी बनाएंगे।

Also Read Story

Raiganj Bypoll Result: 50077 वोटों से चुनाव जीते TMC के कृष्ण कल्याणी

Rupauli Bypoll Result: 8,246 वोटों से चुनाव जीते निर्दलीय शंकर सिंह

रुपौली पहुंचे सीएम नीतीश कुमार, बीमा भारती को लेकर कहा- “उसको कुछ बोलना नहीं आता था”

Raiganj Bypoll: TMC के कृष्ण कल्याणी, BJP के मानस घोष या कांग्रेस के मोहित सेनगुप्ता?

जदयू के कमजोर होने के दावे के बीच पार्टी कैसे बन गई किंगमेकर?

रुपौली विधानसभा उपचुनाव: राजद की बीमा, जदयू के कलाधर या निर्दलीय शंकर सिंह?

“सरकार मेरे परिवार को फंसा रही है”, रुपौली उपचुनाव में राजद प्रत्याशी बीमा भारती

रुपौली विधनसभा उपचुनाव: जदयू प्रत्याशी कलाधर मंडल ने माना, रुपौली में अपराध ज़्यादा

“रुपौली में अब नहीं चलेगा अपराधियों का राज” – एनडीए प्रत्याशी की जनसभा में बोले बिहार कैबिनेट मंत्री डॉ दिलीप जायसवाल 

शंकर सिंह और उनकी पत्नी जिला परिषद सदस्य व पूर्व जीप अध्यक्ष प्रतिमा सिंह ने पूर्णिया में प्रेस वार्ता कर ये ऐलान किया।


शंकर सिंह, फ़रवरी 2005 में रुपौली विधानसभा से लोजपा के टिकट पर चुनाव जीते थे, लेकिन नवंबर 2005 में उनकी हार हो गई थी। 2010 में भी शंकर सिंह राजद समर्थित लोजपा के उम्मीदवार बने थे। 2015 में टिकट नहीं मिलने पर उन्होंने निर्दलीय चुनाव लड़ा। 2020 में लोजपा ने उन्हें वापस उम्मीदवार बनाया और 44,494 वोट लेकर दूसरे स्थान पर थे। वहीं प्रतिमा सिंह 2013 में निर्विरोध पूर्णिया जिला परिषद अध्यक्ष बनी थीं।

प्रतिमा सिंह ने कहा, “हम पप्पू यादव जी से प्रेरणा लेते हैं। उनको देख कर हमें सीख मिलती है। निर्दलीय का ही हवा बह रहा है। पांच बार से हमारे पति लड़ रहे हैं, इस बार छठा बार है। पप्पू यादव जी को देख कर हिम्मत मिलती है।”

गौरतलब है कि एनडीए ने जदयू से पूर्व मुखिया कलाधर प्रसाद मंडल को टिकट दिया है। यहाँ से 2010 से लगातार जदयू की बीमा भारती जीत रही हैं। फिलहाल बीमा राजद में हैं।

राजद से लोकसभा चुनाव लड़ने के लिए बीमा भारती ने रुपौली के विधायक पद से इस्तीफा दिया था, जिसके बाद ये सीट खाली हो गई थी। बीमा भारती पप्पू यादव के सामने कहीं भी नहीं टिकीं और ज़मानत ज़ब्त हो गई। ऐसे में रुपौली में 10 जुलाई को होने वाले उपचुनाव में पप्पू यादव भी एक फैक्टर हो सकते हैं।

सीमांचल की ज़मीनी ख़बरें सामने लाने में सहभागी बनें। ‘मैं मीडिया’ की सदस्यता लेने के लिए Support Us बटन पर क्लिक करें।

Support Us

सैयद तहसीन अली को 10 साल की पत्रकारिता का अनुभव है। बीते 5 साल से पुर्णिया और आसपास के इलाकों की ख़बरें कर रहे हैं। तहसीन ने नई दिल्ली स्थित जामिया मिल्लिया इस्लामिया से पत्रकारिता की पढ़ाई की है।

Related News

रुपौली विधानसभा उपचुनाव: बीमा भारती ने कहा, “हमारे परिवार से हम लड़ेंगे या हमारे पति लड़ेंगे”

रुपौली विधानसभा उपचुनाव: कौन हैं जदयू के प्रत्याशी कलाधर प्रसाद मंडल?

रुपौली विधानसभा उपचुनाव पर बोले पप्पू यादव – ‘जनता घिसी-पिटी राजनीति करने वालों के साथ नहीं है’

लोकसभा चुनाव 2024: किशनगंज में कैसे कांग्रेस ने फिर एक बार जदयू व AIMIM को दी पटखनी?

वायरल ऑडियो: क्या किशनगंज में भाजपा नेताओं ने अपना वोट कांग्रेस के तरफ ट्रांसफर कराया?

पप्पू यादव कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे से मिले, कांग्रेस को दिया अपना समर्थन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest Posts

Ground Report

अररिया में भाजपा नेता की संदिग्ध मौत, 9 दिन बाद भी पुलिस के हाथ खाली

अररिया में क्यों भरभरा कर गिर गया निर्माणाधीन पुल- ग्राउंड रिपोर्ट

“इतना बड़ा हादसा हुआ, हमलोग क़ुर्बानी कैसे करते” – कंचनजंघा एक्सप्रेस रेल हादसा स्थल के ग्रामीण

सिग्नल तोड़ते हुए मालगाड़ी ने कंचनजंघा एक्सप्रेस को पीछे से मारी टक्कर, 8 लोगों की मौत, 47 घायल

किशनगंज के इस गांव में बढ़ रही दिव्यांग बच्चों की तादाद