Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

दिघलबैंक में बाढ़ जैसे हालत, क़ब्रिस्तान पर मंडरा रहा खतरा

Main Media Logo PNG Reported By Main Media Desk |
Published On :

किशनगंज के दिघलबैंक प्रखंड क्षेत्र सहित नेपाल के तराई क्षेत्रों में सोमवार की रात से हो रही लगातार बारिश से जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया है। वहीं, भारी बारिश से प्रखंड क्षेत्र से होकर बहने वाली कनकई, बूढ़ी कनकई सहित उनकी सहायक छोटी नदियों का जलस्तर बढ़ने से बाढ़ जैसे हालत पैदा हो गये हैं।

मंगलवार दोपहर तक तटवर्ती इलाके में पानी भरने लगा है, जिससे लोग सहमे हुए हैं। दिघलबैंक प्रखंड क्षेत्र में हो रही मुसलाधार बारिश के बाद निचले इलाकों में कनकई व बूढ़ी कनकई नदी का पानी गाँव में घुस गया है, जबकि जगह-जगह डायवर्सन व सड़कें कट गई हैं। वहीं, प्रखंड की करवामनी पंचायत अंतर्गत बारहभांग गाँव में स्थित नव प्राथमिक विद्यालय बारहभांग में बूढ़ी कनकई नदी का पानी घुस गया है, जिससे यहां बाढ़ जैसा हालात हैं। लगातार बारिश के बीच कटाव भी तेज हो गया है जिससे लोग सहमे हुए हैं।

Also Read Story

मनिहारी: कटान रोधी कार्य है बेअसर, निरंतर घरों को निगल रही गंगा

हर साल कटाव का कहर झेल रहा धप्परटोला गांव, अब तक समाधान नहीं

डोंक नदी में कटाव से गांव का अस्तित्व खतरे में

बाढ़ की त्रासदी से जूझ रहे कटिहार के कुरसेला, बरारी, मनिहारी, अमदाबाद

10 साल से पुल अधूरा, हज़ारों की आबादी नांव पर निर्भर

बरसात मे निर्माण, सड़क की जगह नाव से जाने को विवश हैं ग्रामीण

Bihar Flood: किशनगंज में जगह-जगह पुल और सड़क क्षतिग्रस्त

‘मरम्मत कर तटबंध और कमज़ोर कर दिया’

अररिया शहर में बाढ़ का पानी – ‘हर साल, यही हाल होता है’

कई गांवों में बाढ़ जैसे हालात

वहीं लगातार हो रही मुसलाधार बारिश के बाद कई गांव में बाढ़ जैसे हालात बन गये हैं। दिघलबैंक के पथरघट्टी, दोदरा, ग्वालटोली, बारहभांग, पलसा, आठगछिया, गिरीटोला में कनकई व बूढ़ी कनकई नदी का पानी गांव में घुसने से बाढ़ की स्थिति बन गई है। लोग अपने बचाव के लिए ऊंचे स्थानों पर पलायन करने को मजबूर हैं।

कटाव हुआ तेज

लगातार बारिश के बाद जगह जगह कटाव तेज हो गया है। दिघलबैंक के ग्वालटोली में कटाव इतना तेज है कि यहां इस वर्ष अबतक एक दर्जन परिवारों ने अपना घर तोड़कर पलायन कर लिया है। इधर आठगछिया के गोरूमरा और कैलान बस्ती कब्रिस्तान बूढ़ी कनकई नदी के कटाव की जद में है। कब्रिस्तान के तेजी से कटाव को देख स्थानीय लोगों ने जनप्रतिनिधियों से लेकर प्रशासन तक कटाव निरोधक कार्य कराने की मांग की है, लेकिन अब तक कोई काम नहीं हुआ है, जिससे लोगों में नाराजगी है।

बिहारटोला स्कूल कटाव के जद में

इधर, लगातार बारिश और जलस्तर बढ़ने से धनतोला के बिहारटोला में सरकारी स्कूल कटाव की कगार पर है। बिहारटोला में बीते कई सालों से कटाव हो रहा है, लेकिन वहां कटाव निरोधी कार्य के नाम पर सिर्फ खानापूर्ति की गयी है।

गौरतलब हो कि दिघलबैंक नेपाल सीमा से सटा हुआ है, जहां हर साल बाढ़ से करोड़ों रुपए का नुकसान होता है जबकि खेती योग्य जमीन, घर, सड़क आदि क्षतिग्रस्त हो जाते हैं। साल 2017 की बाढ़ में क्षतिग्रस्त हुए दर्जनों सड़क, पुल, पुलिया अभी भी जस की तस बने हुए हैं।

वहीं, बाढ़ ग्रस्त पंचायत की बात करें, तो सिंघीमारी, पथरघट्टी, धनतोला, आठगछिया, लक्ष्मीपुर और लोहागड़ा खतरनाक जोन में शामिल हैं।


पुल कहीं और, नदी कहीं और… अररिया में सरकार को चकमा देता विकास

SDRF की एक टीम के भरोसे सीमांचल के 1.08 करोड़ लोग


सीमांचल की ज़मीनी ख़बरें सामने लाने में सहभागी बनें। ‘मैं मीडिया’ की सदस्यता लेने के लिए Become A Member बटन पर क्लिक करें।

Become A Member

This story has been done by collective effort of Main Media Team.

Related News

2017 के बाढ़ में ध्वस्त पुल अब तक नहीं हुआ पुनर्निर्माण

सिकटी में दो जगह सड़क पर 25-30 फीट का कटाव

नदी के गर्भ में समा रहा स्कूल, गुस्से में टेढ़ागाछ के भू-दाता

अररिया में बाढ़ से बुरा हाल, नरपतगंज में पलायन शुरू

किशनगंज के लौचा में भीषण कटान, डीएम के दौरे से भी नहीं बदली सूरत

जलमग्न किशनगंज रेलवे स्टेशन, यात्रियों को हो रही है परेशानी

अररिया में बाढ़ की तबाही का मंज़र

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latests Posts

सहरसा का बाबा कारू खिरहर संग्रहालय उदासीनता का शिकार

Ground Report

स्कूल जर्जर, छात्र जान हथेली पर लेकर पढ़ने को विवश

सुपौल: पारंपरिक झाड़ू बनाने के हुनर से बदली जिंदगी

गैस कनेक्शन अब भी दूर की कौड़ी, जिनके पास है, वे नहीं भर पा रहे सिलिंडर

ग्राउंड रिपोर्ट: बैजनाथपुर की बंद पड़ी पेपर मिल कोसी क्षेत्र में औद्योगीकरण की बदहाली की तस्वीर है

मीटर रीडिंग का काम निजी हाथों में सौंपने के खिलाफ आरआरएफ कर्मी