Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

अररिया: धार्मिक स्थल पर लगाया दूसरे सम्प्रदाय का झंडा, स्थिति काबू में

Main Media Logo PNG Reported By Main Media Desk |
Updated On :

अररिया के नगर थाना क्षेत्र में रामपुर कोदरकट्टी पंचायत के राजपूत टोला स्थित लक्ष्मी-नारायण मंदिर में मंगलवार की देर रात असामाजिक तत्वों द्वारा मंदिर में स्थापित प्रतिमा के साथ तोड़फोड़ की गई और ध्वज के साथ छेड़छाड़ करते हुए दूसरे समुदाय का झंडा लगा दिया गया।

बुधवार की सुबह ग्रामीणों ने टूटी प्रतिमा और झंडा देखा व तुरंत इसकी सूचना थाने को दी गई। घटना की सूचना पाकर भारी संख्या में पुलिस बल पहुंची और तनाव की आशंका के मद्देनजर फ्लैग मार्च किया। मौके पर अब भी पुलिस बल मौजूद है, ताकि माहौल तनावपूर्ण न हो जाए।

Also Read Story

किशनगंज: उत्तर बिहार ग्रामीण बैंक के तत्कालीन मैनेजर पर 1 लाख रुपए से ज़्यादा के गबन का आरोप

अनियंत्रित हाइवा ट्रक की चपेट में आने से 13 वर्षीय छात्र की मौत, सड़क जाम

पुलिस ने नहीं ली शिकायत, थाना परिसर में ही ज़ख्मी व्यक्ति ने तोड़ा दम

किशनगंज: आदिवासी समुदाय के नाइट गार्ड की संदिग्ध अवस्था में मौत, हंगामा

कटिहार: ग्रामीण किसान बदमाशों के तांडव का शिकार , कहीं हत्या, तो कहीं मारपीट की खबर

कटिहार: आपसी विवाद में दोस्त ने दोस्त को मारी गोली, लोगों ने किया सड़क जाम

किशनगज: शराब तस्करों पर उत्पाद विभाग की कार्रवाई, महिला समेत 26 गिरफ्तार

सीएसपी संचालक पर जानलेवा हमला कर 5 लाख रुपए की लूट

भाजपा नेता हत्याकांड में दो गिरफ़्तार

स्थानीय लोगों के मुताबिक, बुधवार की सुबह मंदिर की प्रतिमा को क्षतिग्रस्त हालत में देखा गया। यही नहीं, मंदिर परिसर में दूसरे समुदाय का झंडा भी लगा हुआ था और एक एक ध्वज को ब्लेड से काटा गया था।

पंचायत में हिन्दू-मुस्लिम आबादी

रामपुर कोदरकट्टी पंचायत में 65 प्रतिशत आबादी मुस्लिम और 35 प्रतिशत आबादी हिन्दुओं की है। इस पंचायत में हुए पंचायत चुनाव में इस बार भाजपा नेता राजेश कुमार सिंह की पत्नी ने मुखिया पद पर जीत दर्ज की है।

मंदिर राजेश कुमार सिंह के आवास के निकट स्थित है। उन्होंने कहा, “सुबह मैं मॉर्निंग वाक पर निकला, तो देखा कि मंदिर पर दूसरे समुदाय का झंडा लगा हुआ है और मूर्ति क्षतिग्रस्त है। इसकी सूचना मैं थाने में दी, तो आधे घंटे के भीतर भारी संख्या में पुलिस बल पहुंची और इलाके में फ्लैग मार्च किया।”

उन्होंने कहा कि आसपास की आधा दर्जन पंचायतों में इतना भव्य मंदिर नहीं है और यहां दूर दराज से लोग पूजा-पाठ करने के लिए आते हैं।

इस घटना की खबर पाकर मौके पर एसडीओ शैलेश चंद्र दिवाकर, एसडीपीओ पुष्कर कुमार, बीडीओ आशुतोष कुमार, सीओ गोपीनाथ मंडल व नगर थानाध्यक्ष शिव शरण पहुंचे थे। उन्होंने पुलिस बल के साथ फ्लैग मार्च करने के बाद मुखिया, पूर्व मुखिया, सरपंच सहित ग्रामीणों के साथ बैठक की व मामले को शांत कराया।

राजेश कुमार सिंह कहते हैं, “लक्ष्मी-नारायण मंदिर में स्थापित विष्णु भगवान व साथ में उनके माथे पर स्थापित शेषनाग की प्रतिमा के पांच मुख में से मुख्य मुख को किसी असमाजिक तत्व द्वारा तोड़ दिया गया था। साथ ही मंदिर परिसर में हनुमान भगवान के समक्ष स्थापित ध्वज को तोड़ते हुए उसमें लगे ध्वज पताका को फाड़ दिया गया। साथ ही दूसरे समुदाय का झंडा वहां लगा दिया गया था।”

“घटना की सूचना हमने पुलिस को दी तो तुरंत पुलिस बल पहुंची और फ्लैग मार्च किया। पुलिस की टीम अब भी गांव में मौजूद है। स्थिति सामान्य है,” राजेश कुमार ने कहा। उन्होंने आगे कहा, “पुलिस ने अतिसक्रियता दिखाई जिससे हालात तनावपूर्ण नहीं बन पाये।”

स्थानीय लोगों का कहना है कि इस पंचायत में कभी भी साम्प्रदायिक तनाव की स्थिति नहीं बनी है। कभी भी ऐसी स्थिति बनती है, तो दोनों समुदाय के लोग आपसी सुलह से मामले को काबू में कर लेते हैं।

यहां यह भी बता दें कि पिछले कुछ सालों में साम्प्रदायिक दंगों के मामले में बिहार शीर्ष पर रहा है। नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो के मुताबिक, साल 2018 में बिहार में साम्प्रदायिक हिंसा की 167 वारदातें हुई थीं। साल 2019 में साम्प्रदायिक तनाव की 135 घटनाएं हुई थीं, जो साल साल 2020 में घटकर 117 पर आ गईं, लेकिन तब भी बिहार शीर्ष पर है। लेकिन, सीमांचल के जिलों में इस तरह की वारदातें अब भी नहीं के बराबर होती हैं।

दोनों संप्रदाय के लोगों ने दिखाई समझदारी

घटना की जानकारी मिलने के बाद मंदिर परिसर में रामपुर कोदरकट्टी पंचायत के पूर्व मुखिया प्रतिनिधि मो. शहजाद आलम, सरपंच व हिंदू-मुस्लिम संप्रदाय के वरिष्ठ लोगों के साथ बैठक कर वरीय पदाधिकारियों ने मामले को शांत कराया। मामले को शांत कराने में दोनों संप्रदाय के लोगों का बहुत बड़ा योगदान रहा।

शहजाद आलम ने कहा, “मूर्ति को क्षतिग्रस्त करना और झंडे लगा देना आपराधिक कृत्य है। पुलिस इस मामले में गंभीरता से जांच कर असली दोषियों को गिरफ्तार कर कठोर सजा दिलवाये ताकि आइंदा इसी घटना न हो।”

घटना की जानकारी मिलने पर स्थानीय सांसद प्रदीप कुमार सिंह भी पंचायत में पहुंचे और स्थिति का जायजा लिया। सदर एसडीपीओ पुष्कर कुमार ने कहा कि मामले की जांच की जा रही है यह काम जिस किसी ने भी किया उसे जल्द गिरफ्तार किया जाएगा।


क्या पुलिस की पिटाई से हुई शराब के आरोपित की मौत?


सीमांचल की ज़मीनी ख़बरें सामने लाने में सहभागी बनें। ‘मैं मीडिया’ की सदस्यता लेने के लिए Become A Member बटन पर क्लिक करें।

Become A Member

This story has been done by collective effort of Main Media Team.

Related News

पहले थाना प्रभारी, अगले दिन दरोगा – 24 घंटे में 3 रिश्वतखोर की पकड़, एक थाना प्रभारी भी निलंबित

किशनगंज के MGM मेडिकल कॉलेज में हैकिंग, एक साल का डाटा चोरी

कटिहार में पूर्व जिला पार्षद संजीव मिश्रा की गोली मारकर हत्या

आठ साल की बच्ची से दुष्कर्म, पीड़िता का चाचा गिरफ्तार

अररिया : जीएसटी चोरी के शक में ज्वेलरी दुकान पर कर विभाग का छापा

किशनगंज से 67 शराबी और शराब के धंधेबाज गिरफ्तार

अवैध संबंध के संदेह में युवक ने की पत्नी की हत्या

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latests Posts

सहरसा का बाबा कारू खिरहर संग्रहालय उदासीनता का शिकार

Ground Report

स्कूल जर्जर, छात्र जान हथेली पर लेकर पढ़ने को विवश

सुपौल: पारंपरिक झाड़ू बनाने के हुनर से बदली जिंदगी

गैस कनेक्शन अब भी दूर की कौड़ी, जिनके पास है, वे नहीं भर पा रहे सिलिंडर

ग्राउंड रिपोर्ट: बैजनाथपुर की बंद पड़ी पेपर मिल कोसी क्षेत्र में औद्योगीकरण की बदहाली की तस्वीर है

मीटर रीडिंग का काम निजी हाथों में सौंपने के खिलाफ आरआरएफ कर्मी