Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

बिना सैंपल लिए ही बिहार स्वास्थ्य विभाग ने बना दिया कोरोना पॉजिटिव

बिहार के हेल्थ डिपार्टमेंट की लापरवाही का ये ताज़ातरीन किस्सा रोहतास ज़िले का है, जहाँ संझौली प्रखंड में मौजूद स्वास्थ्य विभाग के कर्मियों ने कोरोनावायरस के जांच सैंपल लिए बिना ही एक ही परिवार के 2 सदस्यों को कोरोना पॉजिटिव घोषित कर दिया।

Utkarsh Kumar Singh Reported By Utkarsh Kumar Singh |
Published On :

बिहार में हर दिन लगभग 10 हज़ार कोरोना वायरस सैंपल्स की जांच हो रही है। विपक्ष और आम जनता लगातार जांच की संख्या बढ़ाने की मांग कर रही है। लेकिन सरकार 10 हज़ार से बढ़कर आगे कितने आंकड़े तक पहुंच पाएगी ये किसी को नहीं पता। लेकिन, जो पता है वो बहुत ही चौंकाने वाला है।

एक तरफ जांच तो कम हो ही रही है, वहीं दूसरी ओर उन लोगों के कोरोना रिपोर्ट भी पॉजिटिव आ जा रहे हैं, जिन्होंने कभी अपना टेस्ट कराया ही नहीं, जिनसे जांच के लिए कभी सैंपल लिया ही नहीं गया।

Also Read Story

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कोरोना को लेकर की उच्चस्तरीय बैठक

बिहार में कोरोना के 2 मरीज मिलने के बाद स्वास्थ्य विभाग सतर्क

कोरोना का बिहार में दस्तक, महिला मरीज की मौत

धूल फांक रहे पीएम केयर फंड से अररिया सदर अस्पताल को मिले 6 वेंटिलेटर

सभी 18 साल से ऊपर वाले लोगों को फ्री में लगेगी वैक्सीन: PM

उत्तर प्रदेश में 20 लोगों को लगा दी दो अलग-अलग वैक्सीन की डोज

कोरोना टीकाकरण की तारीख़ हुई तय

बिहार में कोरोना टेस्ट के नाम पर ली जा रही है रिश्वत

समय रहते Oxygen न मिलने की वजह से मरीज ने अस्पताल में ही तोड़ा दम

बिहार के हेल्थ डिपार्टमेंट की लापरवाही का ये ताज़ातरीन किस्सा रोहतास ज़िले का है, जहाँ संझौली प्रखंड में मौजूद स्वास्थ्य विभाग के कर्मियों ने कोरोनावायरस के जांच सैंपल लिए बिना ही एक ही परिवार के 2 सदस्यों को कोरोना पॉजिटिव घोषित कर दिया।


जब परिवार को इस बारे में पता चला, तो उनके पैरों तले जमीन खिसक गई। परिवार को यह समझ ही नहीं अया कि बिना सैंपल लिए ही स्वास्थ्य विभाग ने उन्हें पॉजिटिव कैसे घोषित कर दिया।

चूंकि परिवार ने टेस्ट कराया ही नहीं था इसलिए उन्हें किसी रिपोर्ट का इंतज़ार नहीं था। लेकिन अचानक घर पर प्रखंड के अधिकारी पहुंचे और महिला व उसके पति को कोरोनावायरस का मरीज बता दिया और परिवार वालों को होम क्वारंटाइन रहने का आदेश सुना दिया। लेकिन जैसे ही इस बात की जानकारी स्वास्थ्य विभाग को लगी कि इस परिवार के सदस्यों का सैंपल लिए बिना ही रिपोर्ट पॉजिटिव दे दिया गया है, विभाग में हड़कंप मच गया।

आनन-फानन में स्वास्थ्य कर्मियों ने इस परिवार को फोन कर के इस बात की जानकारी दी कि उनका नाम गलती से आ गया है।

जब इस मामले में जिले के सिविल सर्जन डॉक्टर सुधीर कुमार से पूछा गया तो उन्होंने कुछ भी कहने से मना कर दिया। संझौली प्रखंड के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर मौजूद प्रभारी ने बताया कि

महिला को जांच के लिए बुलाया गया था, लेकिन वह जांच कराने नहीं पहुंची।

संझौली प्रखंड के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर मौजूद प्रभारी

तो सवाल उठना लाज़िमी है कि जब महिला जांच कराने पहुंची ही नहीं तो आखिर उस महिला और उसके परिवार वालों की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव कैसे आ गई!

सीमांचल की ज़मीनी ख़बरें सामने लाने में सहभागी बनें। ‘मैं मीडिया’ की सदस्यता लेने के लिए Support Us बटन पर क्लिक करें।

Support Us

Related News

किशनगंज शहर में 72 घंटों के लिए लगा लॉकडाउन

अररिया: जोकीहाट विधायक शाहनवाज़ आलम कोरोना पॉजिटिव पाए गए

कटिहार: बिहार सरकार के मंत्री विनोद सिंह व उनकी पत्नी कोरोना पॉज़िटिव

किशनगंज सदर अस्पताल में कोरोना जांच शुरू, डीएम ने किया उद्घाटन

अररिया में खुला कोरोनावाइरस जांच केंद्र, सांसद ने किया उद्घाटन

किशनगंज: हत्या के आरोपित को जमानत के लिए हाईकोर्ट ने दिया कोरोना मरीजों की सेवा का आदेश

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest Posts

Ground Report

अररिया में भाजपा नेता की संदिग्ध मौत, 9 दिन बाद भी पुलिस के हाथ खाली

अररिया में क्यों भरभरा कर गिर गया निर्माणाधीन पुल- ग्राउंड रिपोर्ट

“इतना बड़ा हादसा हुआ, हमलोग क़ुर्बानी कैसे करते” – कंचनजंघा एक्सप्रेस रेल हादसा स्थल के ग्रामीण

सिग्नल तोड़ते हुए मालगाड़ी ने कंचनजंघा एक्सप्रेस को पीछे से मारी टक्कर, 8 लोगों की मौत, 47 घायल

किशनगंज के इस गांव में बढ़ रही दिव्यांग बच्चों की तादाद