Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

अररिया के ऐतिहासिक संस्कृत महाविद्यालय का अस्तित्व खतरे में

फारबिसगंज अनुमंडल की मटियारी पंचायत के भट्टाबाड़ी स्थित इस महाविद्यालय का भवन पूरी तरह से खंडहर हो चुका है।

Main Media Logo PNG Reported By Main Media Desk | Araria |
Published On :

सात एकड़ में फैला अररिया जिले का ऐतिहासिक संस्कृत महाविद्यालय (काॅलेज) अपना अस्तित्व खो चुका है। कभी इस विद्यालय में सैकड़ों की संख्या में छात्र शिक्षा ग्रहण करते थे, लेकिन अब यह बेजान पड़ा हुआ है।

फारबिसगंज अनुमंडल की मटियारी पंचायत के भट्टाबाड़ी स्थित इस महाविद्यालय का भवन पूरी तरह से खंडहर हो चुका है। अब इसकी जमीन पर लोगों ने कब्जा करना भी शुरू कर दिया है। लेकिन, फिर भी स्थानीय लोगों की मांग है कि इस विद्यालय को पुनर्जीवित किया जाए और यहां संस्कृत की पढ़ाई पहले की तरह ही शुरू हो, ताकि लोग अपनी सबसे पुरानी भाषा को जीवित रख सकें।

इस दिशा में निजी संस्था एक पहल के संस्थापक आयुष अग्रवाल ने बंद पड़े संस्कृत महाविद्यालय का दौरा करने के उपरांत एक विस्तृत रिपोर्ट तैयार कर एमएलसी राजेंद्र प्रसाद गुप्ता को भेजी है। उन्होंने कहा, “मैंने स्थानीय लोगों से इस महाविद्यालय से संबंधित जानकारियां इकट्ठा की है।”


आयुष अग्रवाल ने बताया कि देश की सभ्यता और संस्कृति को बचाने की दिशा में बिहार सरकार और केंद्र सरकार कई सार्थक पहल कर रही है। अलग अलग सरकारों द्वारा अलग अलग राज्यों में ऐतिहासिक धरोहरों को बचाने की पहल की जा रही है। लेकिन, फारबिसगंज का संस्कृत महाविद्यालय पिछले कई दशकों से विकास की बाट जोह रहा है। उन्होंने बताया कि अगर संस्कृत महाविद्यालय सही मायने में फिर से संचालित हो जाता है तो यहां के लोगों के साथ-साथ सीमांचल के लोगों को भी इसका काफी लाभ मिलेगा। संस्कृत भाषा पढ़ने वाले कम होते जा रहे हैं, अगर यह महाविद्यालय फिर चालू होता है, तो उनकी संख्या में बढ़ोतरी होगी।

dilapidated room in sanskrit college araria

 

पिछले साल विधानसभा में उठा था यह मुद्दा

संस्कृत महाविद्यालय की स्थिति को लेकर फारबिसगंज विधायक विद्यासागर केसरी ने वर्ष 2021 में विधानसभा में सवाल उठाया था। उन्होंने शिक्षा मंत्री से जानकारी मांगी थी कि साल 1990 – 92 तक पठन-पाठन का कार्य चल रहा था, फिर अचानक पठन-पाठन क्यों बंद हो गया। उन्होंने यह भी पूछा था कि शिक्षा विभाग ने इस ओर किस तरह के कदम उठाए हैं।

उन्होंने महाविद्यालय में पुनः पठन-पाठन बहाल करने की मांग की थी। इसके बाद शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने विद्यालय परिसर का निरीक्षण भी किया था और जानकारियां इकट्ठा की थीं।

लेकिन, अभी भी उसकी स्थिति जस की तस बनी हुई है। पूर्णिया प्रमंडल का ऐतिहासिक संस्कृत महाविद्यालय जनप्रतिनिधियों और सरकार की उदासीनता के कारण आज इतिहास के पन्नों में दफन होने के कगार पर है।

स्थानीय विधायक ने बताया कि उनका प्रयास होगा कि इस विद्यालय को फिर से पुनर्जीवित किया जाए और यहां पठन-पाठन फिर से बहाल हो, ताकि सीमांचल की यह ऐतिहासिक धरोहर अपने पुराने अस्तित्व में फिर से लौट सके।

साल 1945 में हुई थी इसकी स्थापना

स्थानीय लोगों ने बताया कि फारबिसगंज प्रखंड की मटियारी पंचायत के भट्टाबाड़ी में सात एकड़ में फैले इस महाविद्यालय की स्थापना आजादी के पहले साल 1945 में हुई थी। पहले यहां संस्कृत महाविद्यालय चलता था, बाद में इस जगह संस्कृत हाईस्कूल चलने लगा। इस विद्यालय में वर्ग सात से दस (प्रथमा और मध्यमा) तक की पढ़ाई होती थी।

जानकारों की मानें तो विद्यालय की स्थापना के बाद इस महाविद्यालय की 41 एकड़ जमीन और सारी संपत्ति 24 अप्रैल 1960 को बिहार के राज्यपाल के नाम रजिस्ट्री हो गई। वर्ष 1990-92 तक यहां पढ़ाई भी होती थी। लेकिन, विद्यालय से एक एक कर सारे शिक्षक और कर्मियों के सेवा निवृत्त होने के कारण पढ़ाई-लिखाई बंद हो गई। उसके बाद ना तो शिक्षकों की दोबारा बहाली हुई और ना ही इस ओर कोई ठोस पहल ही की जा सकी। वर्ष 1953-54 में स्वर्गीय भीमराज पेड़ीवाल चेरिटेबल ट्रस्ट ने विद्यालय का दोबारा संचालन शुरू किया और यहां पंचवर्षीय योजना के स्थानीय विकास के अंतर्गत भवन बनाया गया। लेकिन कुछ वर्षों तक चलने के बाद यह किन्हीं कारणों से बंद हुआ, तो आज तक नहीं खुला।

विद्यालय का भवन देखरेख के अभाव में आज खंडहर में तब्दील हो गया है। जब कोई देखने वाला नहीं मिला, तो भवन के छत पर लगाई गई टीन और खिड़की-दरवाजे तक को असामाजिक तत्वों ने नोच लिया। आज यह खंडहर अपने अस्तित्व की आखिरी निशानी लेकर खड़ा है।

महाविद्यालय की जमीन पर भू माफियाओं का कब्जा

इसके परिसर में आज भी दर्जनों पेड़ लगे हैं। विद्यालय के आगे एक बड़ा सा तालाब है। भट्टाबाड़ी के ग्रामीणों ने बताया कि कुछ साल पहले तक इस तालाब का सरकारी डाक (बोली) भी होता था। लेकिन अब यह तालाब दबंगों के कब्जे में है। वे लोग इसमें मछली उत्पादन का काम करते हैं। उन्हें रोकने टोकने वाला अब कोई यहां नहीं है। इस विद्यालय के आगे तीन एकड़ जमीन के अलावा अन्य जगहों पर बाकी जमीन है, जिस पर दबंगों का कब्जा बताया जाता है। उन जमीनों का लेखा जोखा अब किसी आंकड़े में मौजूद नहीं है।

sanskrit college forbesganj campus

 

नाम नहीं छापने की शर्त पर एक विद्यार्थी ने बताया कि सरकार सिर्फ भवनों पर ध्यान दे रही है, ना कि पढ़ाई पर। आज भी जिले में कई संस्कृत विद्यालय चल रहे हैं जो सिर्फ कागजों पर ही नजर आते हैं। लेकिन, यहां से हर वर्ष मध्यमा की परीक्षा में छात्र भाग भी लेते हैं और वे पास भी होते हैं। लेकिन पढ़ाई करने वाले छात्र के बारे में अगर पता लगाया जाए, तो एक भी ऐसा छात्र नहीं मिलेगा जो संस्कृत में कुछ बोल पाए या लिख पाए। लेकिन उन्हें डिग्री जरूर मिली हुई रहती है।

उन्होंने आगे कहा कि अगर फारबिसगंज के संस्कृत महाविद्यालय को पुनर्जीवित करना है तो सरकार को ठोस कदम उठाना होगा। यहां बेहतर शिक्षकों के साथ साथ व्यवस्था को भी मजबूत करना होगा, ताकि हमारी संस्कृति से जुड़ी संस्कृत भाषा अपना अस्तित्व ना खोए और जो भी हमारे ग्रंथ हैं, छात्र उन्हें जरूर पढ़ें और ज्ञान अर्जित करें।

सीमांचल की ज़मीनी ख़बरें सामने लाने में सहभागी बनें। ‘मैं मीडिया’ की सदस्यता लेने के लिए Support Us बटन पर क्लिक करें।

Support Us

Main Media is a hyper-local news platform covering the Seemanchal region, the four districts of Bihar – Kishanganj, Araria, Purnia, and Katihar. It is known for its deep-reported hyper-local reporting on systemic issues in Seemanchal, one of India’s most backward regions which is largely media dark.

Related News

डोमिसाइल के लिये मुख्यमंत्री के पास कई बार गये, लेकिन उन्होंने डोमिसाइल नीति को निरस्त कर दिया: पूर्व शिक्षा मंत्री चंद्रशेखर

9 से 5 बजे तक स्कूल ठीक नहीं है, आज ही सुधार करवाते हैं: मुख्यमंत्री नीतीश कुमार

केके पाठक का नया आदेश, स्कूलों में 31 मार्च तक सभी छुट्टियां रद्द

केके पाठक का सख़्त आदेश, लंबे समय से स्कूल नहीं आने वाले शिक्षक होंगे नौकरी से बर्ख़ास्त

CTET परीक्षा का रिजल्ट जारी, ऐसे चेक करें अपना रिजल्ट

सक्षमता परीक्षा में पास करने के लिये नियोजित शिक्षकों को मिलेंगे पांच मौक़े

सक्षमता परीक्षा के ऑनलाइन आवेदन की अंतिम तिथि बढ़ी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest Posts

Ground Report

क़र्ज़, जुआ या गरीबी: कटिहार में एक पिता ने अपने तीनों बच्चों को क्यों जला कर मार डाला

त्रिपुरा से सिलीगुड़ी आये शेर ‘अकबर’ और शेरनी ‘सीता’ की ‘जोड़ी’ पर विवाद, हाईकोर्ट पहुंचा विश्व हिंदू परिषद

फूस के कमरे, ज़मीन पर बच्चे, कोई शिक्षक नहीं – बिहार के सरकारी मदरसे क्यों हैं बदहाल?

आपके कपड़े रंगने वाले रंगरेज़ कैसे काम करते हैं?

‘हमारा बच्चा लोग ये नहीं करेगा’ – बिहार में भेड़ पालने वाले पाल समुदाय की कहानी