Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

मनीष कश्यप के विरुद्ध वित्तीय अनियमितता के साक्ष्य मिले हैं: बिहार पुलिस

बिहार पुलिस के अनुसार, मनीष के खिलाफ वित्तीय गड़बड़ी के साथ ही पटना में अवैध रूप से बैनर-पोस्टर लगाने का सुबूत मिला है।

Navin Kumar Reported By Navin Kumar |
Published On :

तमिलनाडु मामले में गिरफ्तार यूट्यूबर मनीष कश्यप की मुश्किलें लगातार बढ़ती जा रही हैं। बिहार पुलिस के अनुसार, मनीष के खिलाफ वित्तीय गड़बड़ी के साथ ही पटना में अवैध रूप से बैनर-पोस्टर लगाने का सुबूत मिला है।

बिहारी मजदूरों की पिटाई का फर्जी वीडियो शेयर करने का आरोपी मनीष कश्यप पिछले कई दिनों से फरार चल रहा था। पुलिस के अनुसार, घर की कुर्की की कार्रवाई होने की सूचना के बाद मनीष ने आत्मसमर्पण किया ।

Also Read Story

शराबबंदी कानून की धज्जियां उड़ा रहे पुलिस और आबकारी पदाधिकारी

कटिहार जिले के पांच ओपी को मिला थाने का दर्जा

किशनगंज के डे मार्केट सब्जी मंडी को हटाये जाने के विरोध में सब्जी विक्रेता हड़ताल पर

लोकसभा चुनाव को लेकर भारत-नेपाल सीमा क्षेत्र समन्वय समिति की बैठक, लिए गए ये अहम फ़ैसले

बिहार बजट 2024: जानिए राज्य सरकार किस क्षेत्र में कितना खर्च करेगी इस वर्ष

प्रमंडल आयुक्त ने किशनगंज मंडलकारा का किया निरीक्षण, सफाई और बिल्डिंग में सुधार का आदेश

“बच्चा का एक्सीडेंट होगा तो डीएम साहब लाकर देगा?” – किशनगंज डीएम आवास के पास घेराबंदी से स्थानीय लोगों में आक्रोश

अररिया जिले में बैंकों की सुरक्षा भगवान भरोसे

अररिया का तापमान 5 डिग्री पर आया, 29 जनवरी तक स्कूलों के समय में बदलाव

पुलिस पर हमला सहित दस मामले दर्ज

पुलिस ने मामले को लेकर ट्वीट किया कि मनीष कश्यप के विरुद्ध दस कांड दर्ज होने की सूचना है जिसमें पुलिस पर हमला के साथ ही साम्प्रदायिक पोस्ट और गतिविधियों में शामिल हैं। तमिलनाडु में बिहारियों से मारपीट का फर्जी और भ्रामक वीडियो को प्रसारित कर अफवाह फैलाने के जनक के रूप में मनीष को अभियुक्त बनाया गया है।


पटना के कोचिंग संचालकों की मदद से बिना अनुमति के अवैध रूप से बड़े बड़े होर्डिंग्स लगाकर खुद का प्रचार करने का मामला भी सामने आया है। मनीष के विरुद्ध बड़ी मात्रा में वित्तीय गड़बड़ी के साक्ष्य मिले हैं जिनकी जांच जारी है। वित्तीय गड़बड़ी के खिलाफ कार्रवाई करते हुए खातों को फ्रिज भी किया गया है।

पुलिस के दबाव में किया आत्मसमर्पण

पुलिस तमिलनाडु मामले को लेकर पूरी सजगता और सावधानी बरत रही है। पुलिस, मनीष की गिरफ्तारी के लिए वारंट निकलवा कर लगातार दबिश बना रही थी। पुलिस के मुताबिक, गिरफ्तारी के लिए आर्थिक अपराध इकाई की विशेष टीम बनाई गई थी। गिरफ्तारी के लिए कई दिनों से दिल्ली, हरियाणा, सोनीपत आदि जगहों पर छापेमारी की जा रही थी।

पुलिस का कहना है कि लगातार हो रही छापेमारी और आय के स्रोत की जांच से परेशान होकर मनीष कश्यप ने बेतिया के जगदीशपुर ओपी (आउटपोस्ट) में आत्मसमर्पण किया है। मनीष कश्यप के विरुद्ध कुर्की जब्ती की कार्रवाई भी हो रही थी।

रिमांड पर लेकर होगी पूछताछ

पुलिस ने बताया कि कार्रवाई को आगे बढ़ाते हुए पटना नगर निगम और वरीय पुलिस अधीक्षक, पटना को पत्र भेजा गया है। अभियुक्त मनीष कश्यप को कोर्ट में प्रस्तुत किया जाएगा और पूछताछ के लिए कोर्ट से रिमांड में देने के लिए अनुरोध किया जायेगा।

अभियुक्त के सभी कांडों की जांच समय पर पूरा होने के लिए विशेष लोक अभियोजक के माध्यम से समय से विचारण कराया जायेगा। पुलिस ने कहा कि कांड का अग्रेतर अनुसंधान जारी है।

गौरतलब है कि मनीष की गिरफ्तारी के बाद तमिलनाडु पुलिस भी पटना पहुंची है। बताया जा रहा है कि मनीष को पूछताछ के लिए तमिलनाडु ले जाया जाएगा। मनीष के खिलाफ तमिलनाडु में भी केस दर्ज है।

सीमांचल की ज़मीनी ख़बरें सामने लाने में सहभागी बनें। ‘मैं मीडिया’ की सदस्यता लेने के लिए Support Us बटन पर क्लिक करें।

Support Us

नवीन कुमार बिहार के मुजफ्फरपुर जिले के रहने वाले हूं। आईआईएमएससी दिल्ली से पत्रकारिता की पढ़ाई की है। अभी स्वतंत्र पत्रकारिता करते हैं। सामाजिक विषयों में रुचि है। बिहार को जानने और समझने की निरंतर कोशिश जारी है।

Related News

बिहार सरकार ने 478 रेवेन्यू अफसर और अंचल अधिकारियों को बदला

पूर्णिया, अररिया, मधेपुरा, सहरसा के SP बदले, बिहार में 79 IPS अफसरों का तबादला

रवि राकेश बने पूर्णिया के एडीएम, बड़े स्तर पर हुआ प्रशासनिक अधिकारियों का तबादला

बंगाल पुलिस ने 28 जनवरी की न्याय यात्रा से संबंधित सार्वजनिक बैठक को अनुमति देने से क‍िया इनकार

नीतीश कुमार हमारे गार्जियन हैं, वह जो निर्णय लेंगे हमलोग उस पर तैयार हैं: मंत्री ज़मा ख़ान

किशनगंज: नदी कटान में बेघर हुए 15 परिवारों को मिला आवास

‘बिहार लघु उद्यमी योजना’ को कैबिनेट की स्वीकृति, 94 लाख ग़रीब परिवारों को मिलेंगे दो-दो लाख रुपये

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest Posts

Ground Report

क़र्ज़, जुआ या गरीबी: कटिहार में एक पिता ने अपने तीनों बच्चों को क्यों जला कर मार डाला

त्रिपुरा से सिलीगुड़ी आये शेर ‘अकबर’ और शेरनी ‘सीता’ की ‘जोड़ी’ पर विवाद, हाईकोर्ट पहुंचा विश्व हिंदू परिषद

फूस के कमरे, ज़मीन पर बच्चे, कोई शिक्षक नहीं – बिहार के सरकारी मदरसे क्यों हैं बदहाल?

आपके कपड़े रंगने वाले रंगरेज़ कैसे काम करते हैं?

‘हमारा बच्चा लोग ये नहीं करेगा’ – बिहार में भेड़ पालने वाले पाल समुदाय की कहानी