Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

Deputy CM Tarkishore Prasad के शहर कटिहार की हवा सांस लेने लायक नहीं

Main Media Logo PNG Reported By Main Media Desk |
Updated On :

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की तरफ से 23 मार्च को जारी वायु गुणवत्ता सूचकांक रिपोर्ट में सीमांचल के कटिहार शहर को लेकर चौंकाने वाला आंकड़ा सामने आया है।

रिपोर्ट में देश के 156 शहरों की 24 घंटे की हवा की गुणवत्ता का मूल्यांकन किया गया है। इनमें से कटिहार जिले के कटिहार शहर की हवा की गुणवत्ता सबसे खराब है।

Also Read Story

बिहार के डेढ़ दर्जन औषधीय महत्व के पौधे विलुप्ति की कगार पर

सीमांचल के शहरों में क्यों बढ़ रहा प्रदूषण

हर साल कटाव का कहर झेल रहा धप्परटोला गांव, अब तक समाधान नहीं

डोंक नदी में कटाव से गांव का अस्तित्व खतरे में

कोसी क्षेत्र : मौसम की अनिश्चितताओं से निपटने के लिए मखाना की खेती कर रहे किसान

सुपौल: पानी में प्रदूषण से गांवों में फैल रहा आरओ वाटर का कारोबार, गरीबों का बढ़ा खर्च

धूल फांक रही अररिया की इकलौती हाईटेक नर्सरी

कहीं बारिश, कहीं सूखा – बदलते मौसम से सीमांचल के किसानों पर आफत

बिजली की घोर किल्लत ने बढ़ाई किसानों, आम लोगों की समस्या

रिपोर्ट के मुताबिक, कटिहार शहर का वायु गुणवत्ता सूचकांक 429 है, जो देश के सभी शहरों से बहुत अधिक है।

deputy cm tarkishore prasad hometown katihar air is not breathable

उल्लेखनीय हो कि भारत में वायु में पीएम-10 की स्वीकृत मात्रा 100 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर (24 घंटे में) होनी चाहिए। यानी कि प्रति घन मीटर में 100 माइक्रोग्राम पीएम-10 सेहत के लिए हानिकारक नहीं है। लेकिन प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की वायु गुणवत्ता सूचकांक के मुताबिक, कटिहार में पीएम-10 की मौजूदगी स्वीकृत मात्रा से चार से गुणा अधिक है।

प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने बताया कि कटिहार शहर में सिर्फ एक मॉनीटरिंग स्टेशन है, इसी स्टेशन से पार्टिकुलेट मैटर (पीएम)-10 के आंकड़े जुटाये गये हैं। बोर्ड ने अपनी रिपोर्ट में कटिहार शहर की वायु गुणवत्ता को गंभीर बताया है। इसका मतलब है कि अगर ऐसी गुणवत्ता वाली हवा में सांस ली गई, तो स्वस्थ व्यक्ति भी बीमार पड़ सकता है। अगर कोई पहले से बीमार है, तो इस हवा में सांस लेने उसके लिए और भी खतरनाक हो सकता है।

deputy cm tarkishore prasad hometown katihar air is not breathable

पार्टिकुलेट मैटर बहुत छोटा लगभग 10 माइक्रोमीटर आकार का तत्व है, जो धूल और धुएं में पाया जाता है। जानकारों के मुताबिक, पीएम-10 अगर शरीर में प्रवेश कर जाए, तो इससे फेफड़े की बीमारी, दमा, हृदयाघात, कैंसर जैसी जानलेवा बीमारियां हो सकती हैं।

प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की तरफ से जारी रिपोर्ट में अररिया और किशनगंज शहर भी शामिल हैं, लेकिन अररिया की वायु गुणवत्ता तुलनात्मक रूप से ठीक है जबकि किशनगंज की वायु गुणवत्ता खराब है।

रिपोर्ट में सीमांचल के तीन शहरों के अलावा आरा, बेतिया, भागलपुर, छपरा, बक्सर, गया, हाजीपुर समेत अन्य 12 शहर शामिल हैं। इनमें से सहरसा, मुंगेर और भागलपुर की हवा काफी खराब बताई गई है।

क्यों बढ़ा कटिहार का वायु गुणवत्ता सूचकांक

कटिहार शहर में हालांकि वायु गुणवत्ता सूचकांक के लिए एक ही मॉनीटरिंग स्टेशन से आंकड़े लिये गये हैं। ऐसे में ये मानना मुश्किल है कि पूरे शहर में ऐसी ही वायु गुणवत्ता होगी। स्थानीय एक्टिविस्ट विक्टर झा ने कहा, “कटिहार शहर में न कोई बड़ी फैक्टरी है और न ही कोई बड़ा कंस्ट्रक्शन हो रहा है, फिर यहां की वायु गुणवत्ता इतनी खराब कैसे हो गई, समझ से परे हैं।”

Katihar Victor Jha

पर्यावरणविद मोहित रे कहते हैं, “ये कोई जरूरी नहीं कि बड़ी फैक्टरियां हों, तो ही पीएम-10 अधिक होगा। अगर सड़कें अच्छी नहीं हैं। सड़कों पर धूल अधिक उड़ती है। ट्रक व अन्य भारी वाहनों की आवाजाही अधिक है, तो भी पीएम-10 बढ़ सकता है।”

ग्रीनपीस इंडिया के सीनियर क्लाइमेट कैम्पेनर अविनाश चंचल कहते हैं, “जीवाश्म ईंधन जलाने, कंस्ट्रक्शन साइट्स की धूल, ट्रांस्पोर्टेशन व खुले में कूड़ा जलाने की वजह से वातावरण में पीएम-10 की मात्रा बढ़ जाती है।”

Avinash Chanchal

यहां ये भी बता दें कि कटिहार शहर का वायु गुणवत्ता का निर्धारण सिर्फ एक मॉनीटरिंग स्टेशन से किया गया है। अविनाश चंचल कहते हैं, “मॉनीटरिंग स्टेशनों का कम होना एक गंभीर समस्या है। एक मॉनीटरिंग स्टेशन से पूरे शहर की वायु गुणवत्ता का पता नहीं लगाया जा सकता है, इसलिए मॉनीटरिंग स्टेशनों को बढ़ाने की जरूरत है।”

प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की ये रिपोर्ट कितनी गंभीर है? इस सवाल पर मोहित रे कहते हैं, “अगर सिर्फ एक दिन ज्यादा खराब है हवा, तो बहुत चिंता की बात नहीं है। लेकिन शहर की वायु गुणवत्ता की लगातार निगरानी करनी चाहिए और लगातार ऐसी ही वायु गुणवत्ता रहती है, तो इसे कम करने के उपाय करने की जरूरत है।”

“पीएम-10 का अधिक होना सबसे ज्यादा उन लोगों की सेहत पर प्रभाव डालता है, जो बाहर रहते हैं। मसलन रोड किनारे ठेला-खोमचा लगाने वाले, कंस्ट्रक्शन साइट्स या अन्य खुली जगह पर काम करने वाले मजदूर, फुटपाथ पर रहने वाले लोग इस प्रदूषण की जद में आते हैं,” अविनाश चंचल ने कहा।

गौरतलब हो कि पिछले साल जलवायु परिवर्तन को लेकर आई एक रिपोर्ट में बताया गया था कि सीमांचल के जिलों में जलवायु परिवर्तन का प्रभाव सबसे ज्यादा बढ़ेगा।

सीमांचल के जिले पहले से ही कटाव और बाढ़ की समस्या से हलकान हैं, ऐसे में अब वायु प्रदूषण को लेकर प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की रिपोर्ट ने सीमांचल के लोगों की चिंता बढ़ा दी है।

सीमांचल की ज़मीनी ख़बरें सामने लाने में सहभागी बनें। ‘मैं मीडिया’ की सदस्यता लेने के लिए Become A Member बटन पर क्लिक करें।

Become A Member

This story has been done by collective effort of Main Media Team.

Related News

आधा दर्जन से ज्यादा बार रूट बदल चुकी है नेपाल सीमा पर स्थित नूना नदी

सीमांचल में बढ़ रहा हाथियों का उत्पात, घरों और फसलों को पहुंचा रहे नुकसान

बिहार के इन गांवों में क्यों मिल रहे हैं इतने अजगर?

किशनगंज: भयावह बाढ़ की चपेट में टेढ़ागाछ प्रखंड, चुनाव पर आशंका के बादल

असमय आंधी और बारिश से सीमांचल में फसलों की तबाही

दल्लेगांव: यहां लाशों को भी मुक्ति के लिए नदी पार करना पड़ता है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latests Posts

सहरसा का बाबा कारू खिरहर संग्रहालय उदासीनता का शिकार

Ground Report

स्कूल जर्जर, छात्र जान हथेली पर लेकर पढ़ने को विवश

सुपौल: पारंपरिक झाड़ू बनाने के हुनर से बदली जिंदगी

गैस कनेक्शन अब भी दूर की कौड़ी, जिनके पास है, वे नहीं भर पा रहे सिलिंडर

ग्राउंड रिपोर्ट: बैजनाथपुर की बंद पड़ी पेपर मिल कोसी क्षेत्र में औद्योगीकरण की बदहाली की तस्वीर है

मीटर रीडिंग का काम निजी हाथों में सौंपने के खिलाफ आरआरएफ कर्मी