Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

कटिहार: खंडहरनुमा जर्जर इंदिरा आवास कभी भी बन सकता है बड़े हादसे की वजह

कटिहार के समेली प्रखंड की मलहरिया पंचायत स्थित बखरी गांव के लोग जर्जर छत के नीचे रात बिताने को मजबूर हैं।

shadab alam Reported By Shadab Alam | Katihar |
Updated On :

कटिहार के समेली प्रखंड की मलहरिया पंचायत स्थित बखरी गांव के लोग जर्जर छत के नीचे रात बिताने को मजबूर हैं। इस गांव में सालों पहले सरकार द्वारा सैकड़ों इंदिरा आवास निर्माण करवाए गए थे, मगर उसके बाद धीरे-धीरे सभी आवास जर्जर हो गए। इन खस्ताहाल मकानों के मेंटेनेंस के नाम पर कुछ भी नहीं हो पाया है, जिस कारण अब लोगों ने घर छोड़कर या तो मचान में बसेरा बनाया है या घर के अंदर जान जोखिम में डालकर रहने पर मजबूर हैं। ऐसे में तेज हवा के झोका या जोरदार बारिश कभी इस इलाके के लिए बड़े हादसे की वजह बन सकता है।

क्या कहते हैं मकान के लाभुक

कटिहार ज़िले का यह बखरी गांव महादलित बहुसंखक है।

जर्जर हो चुके मकानों को लेकर पीड़ित गाँव निवासियों का कहना है कि 30 से 35 साल पहले इंदिरा आवास योजना से घर बनाकर दिया गया था जो अब जर्जर हो चुका है। वृद्ध अवस्था में पहुंच चुके नित्यानंद ऋषि कहते हैं, “30 साल से ऊपर हो गया घर बने हुए, मेरा घर टूट गया तब से हम लोग मचान पर चचला बनाकर और पल्ली टांग कर रह रहे हैं। बाल बच्चों को बहुत तकलीफ होता है। यहाँ कोई सरकार ध्यान नहीं देता है, बहुत दुख से रहते हैं।”

गांव की एक बुज़ुर्ग मिथिया देवी के अनुसार उनका घर 2 वर्ष पहले गिर गया था, तब से वह और उनका परिवार मचान और पल्ली के बीच धुप की तपिश और रात की ठंडक झेलने पर मजबूर है। वहीं, गांव के कुछ लोऊगो ने बताया कि सरकार ने तीन डिसमिल ज़मीन देकर महादलित परिवारों को बसाने की बात कही थी, लेकिन आज तक किसी को कोई ज़मीन नहीं मिली है , अब उनकी मांग है कि उनके मकान को दुरुस्त किया जाए।

मामले पर क्या कहते हैं जिलाधिकारी

इंदिरा आवासों की इस जर्जर हालात पर कटिहार जिलाधिकारी उदयन मिश्रा कहते हैं, “यह सिर्फ समेली में ही नहीं बल्कि पूरे ज़िले में, पूरे राज्य में ही ऐसी स्थिति है। आज से 15 वर्ष पूर्व जब यह योजना इंदिरा आवास के नाम से जानी जाती थी, तब ही ये मकान बनाये गए थे, जो आज जर्जर हो चुके हैं । सरकार पीड़ितों को अलग से स्वंय सहायता समूह के माध्यम से पचास हज़ार रुपए की रकम उपलब्ध करा रही है ।

“इसके अलावा हम इस समस्या को और भी एक -दो योजनाओं से जोड़ने का प्रयास कर रहे हैं। जिन घरों में पक्की छत न देकर एस्बस्टस वग़ैरह लगाया गया था, उसमे छत ढालने के संबंध में हम लोग कुछ योजनाओं की तैयारी में लगे हैं। जल्द ही जर्जर हो चुके मकान सही अवस्था में आ जाएं, हम इसके प्रयास में लगे हैं,” उन्होंने कहा।

Also Read Story

किशनगंज: उत्तर बिहार ग्रामीण बैंक के तत्कालीन मैनेजर पर 1 लाख रुपए से ज़्यादा के गबन का आरोप

अनियंत्रित हाइवा ट्रक की चपेट में आने से 13 वर्षीय छात्र की मौत, सड़क जाम

बिहार नगरपालिका चुनाव 18 और 28 दिसंबर को

असर: आपदा मंत्री शाहनवाज़ आलम ने दिलाया नदी कटान से स्थाई हल का भरोसा

किशनगंज: आदिवासी समुदाय के नाइट गार्ड की संदिग्ध अवस्था में मौत, हंगामा

अररिया के आजाद एकेडमी मैदान में होगा इमारत शरिया का ‘अजीमुश्शान जलसा’

कटिहार: ग्रामीण किसान बदमाशों के तांडव का शिकार , कहीं हत्या, तो कहीं मारपीट की खबर

दिघलबैंक में गलगलिया-अररिया रेललाइन मुआवज़े का विवाद थमा, निर्माण कार्य को हरी झंडी

खबर का असर : मैं मीडिया की ग्राउंड रिपोर्ट के बाद जिलाधिकारी ने किया विद्यालय का औचक निरीक्षण

सीमांचल की ज़मीनी ख़बरें सामने लाने में सहभागी बनें। ‘मैं मीडिया’ की सदस्यता लेने के लिए Become A Member बटन पर क्लिक करें।

Become A Member

सय्यद शादाब आलम बिहार के कटिहार ज़िले से पत्रकार हैं।

Related News

सीमांचल में चल रहा 3 दिन का तालिमी कारवां

किशनगंज: वार्ड सदस्यों ने पंचायती राज मंत्री मुरारी प्रसाद गौतम का फूंका पुतला

हर साल कटाव का कहर झेल रहा धप्परटोला गांव, अब तक समाधान नहीं

किशनगंज: जदयू के नए प्रखंड अध्यक्षों का अभिनंदन समारोह, पोठिया और दिघलबैंक का चुनाव स्थगित

JD(U) के प्रखंड अध्यक्ष चुनाव में जमकर बवाल, हाथापाई

72 घन्टे तक सील रहेगा भारत-नेपाल बॉर्डर, सीमा पर चौकसी बढ़ाई गई

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latests Posts

सहरसा का बाबा कारू खिरहर संग्रहालय उदासीनता का शिकार

Ground Report

स्कूल जर्जर, छात्र जान हथेली पर लेकर पढ़ने को विवश

सुपौल: पारंपरिक झाड़ू बनाने के हुनर से बदली जिंदगी

गैस कनेक्शन अब भी दूर की कौड़ी, जिनके पास है, वे नहीं भर पा रहे सिलिंडर

ग्राउंड रिपोर्ट: बैजनाथपुर की बंद पड़ी पेपर मिल कोसी क्षेत्र में औद्योगीकरण की बदहाली की तस्वीर है

मीटर रीडिंग का काम निजी हाथों में सौंपने के खिलाफ आरआरएफ कर्मी