Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

कटिहार: खंडहरनुमा जर्जर इंदिरा आवास कभी भी बन सकता है बड़े हादसे की वजह

कटिहार के समेली प्रखंड की मलहरिया पंचायत स्थित बखरी गांव के लोग जर्जर छत के नीचे रात बिताने को मजबूर हैं।

shadab alam Reported By Shadab Alam | Katihar |
Published On :

कटिहार के समेली प्रखंड की मलहरिया पंचायत स्थित बखरी गांव के लोग जर्जर छत के नीचे रात बिताने को मजबूर हैं। इस गांव में सालों पहले सरकार द्वारा सैकड़ों इंदिरा आवास निर्माण करवाए गए थे, मगर उसके बाद धीरे-धीरे सभी आवास जर्जर हो गए। इन खस्ताहाल मकानों के मेंटेनेंस के नाम पर कुछ भी नहीं हो पाया है, जिस कारण अब लोगों ने घर छोड़कर या तो मचान में बसेरा बनाया है या घर के अंदर जान जोखिम में डालकर रहने पर मजबूर हैं। ऐसे में तेज हवा के झोका या जोरदार बारिश कभी इस इलाके के लिए बड़े हादसे की वजह बन सकता है।

क्या कहते हैं मकान के लाभुक

कटिहार ज़िले का यह बखरी गांव महादलित बहुसंखक है।

जर्जर हो चुके मकानों को लेकर पीड़ित गाँव निवासियों का कहना है कि 30 से 35 साल पहले इंदिरा आवास योजना से घर बनाकर दिया गया था जो अब जर्जर हो चुका है। वृद्ध अवस्था में पहुंच चुके नित्यानंद ऋषि कहते हैं, “30 साल से ऊपर हो गया घर बने हुए, मेरा घर टूट गया तब से हम लोग मचान पर चचला बनाकर और पल्ली टांग कर रह रहे हैं। बाल बच्चों को बहुत तकलीफ होता है। यहाँ कोई सरकार ध्यान नहीं देता है, बहुत दुख से रहते हैं।”


गांव की एक बुज़ुर्ग मिथिया देवी के अनुसार उनका घर 2 वर्ष पहले गिर गया था, तब से वह और उनका परिवार मचान और पल्ली के बीच धुप की तपिश और रात की ठंडक झेलने पर मजबूर है। वहीं, गांव के कुछ लोऊगो ने बताया कि सरकार ने तीन डिसमिल ज़मीन देकर महादलित परिवारों को बसाने की बात कही थी, लेकिन आज तक किसी को कोई ज़मीन नहीं मिली है , अब उनकी मांग है कि उनके मकान को दुरुस्त किया जाए।

मामले पर क्या कहते हैं जिलाधिकारी

इंदिरा आवासों की इस जर्जर हालात पर कटिहार जिलाधिकारी उदयन मिश्रा कहते हैं, “यह सिर्फ समेली में ही नहीं बल्कि पूरे ज़िले में, पूरे राज्य में ही ऐसी स्थिति है। आज से 15 वर्ष पूर्व जब यह योजना इंदिरा आवास के नाम से जानी जाती थी, तब ही ये मकान बनाये गए थे, जो आज जर्जर हो चुके हैं । सरकार पीड़ितों को अलग से स्वंय सहायता समूह के माध्यम से पचास हज़ार रुपए की रकम उपलब्ध करा रही है ।

“इसके अलावा हम इस समस्या को और भी एक -दो योजनाओं से जोड़ने का प्रयास कर रहे हैं। जिन घरों में पक्की छत न देकर एस्बस्टस वग़ैरह लगाया गया था, उसमे छत ढालने के संबंध में हम लोग कुछ योजनाओं की तैयारी में लगे हैं। जल्द ही जर्जर हो चुके मकान सही अवस्था में आ जाएं, हम इसके प्रयास में लगे हैं,” उन्होंने कहा।

सीमांचल की ज़मीनी ख़बरें सामने लाने में सहभागी बनें। ‘मैं मीडिया’ की सदस्यता लेने के लिए Support Us बटन पर क्लिक करें।

Support Us

सय्यद शादाब आलम बिहार के कटिहार ज़िले से पत्रकार हैं।

Related News

CBSE ने जारी किया 10वीं का रिज़ल्ट, 93.6% छात्र सफल, पिछले साल से बेहतर रिज़ल्ट

BPSC हेडमास्टर पदों के लिये आयु सीमा में छूट मिलने वाले अभ्यर्थियों का 11 मई से आवेदन

BPSC TRE-3 के प्रश्न-पत्र लीक मामले का ख़ुलासा, गिरोह का मास्टरमाइंड गिरफ्तार

अररिया: ‘छांव फाउंडेशन’ ने खोला एक और सिलाई प्रशिक्षण केंद्र, महिलाएं ले सकेंगी निःशुल्क ट्रेनिंग

अररिया: कुख्यात लॉरेंस बिश्नोई गैंग का शूटर भारत-नेपाल सीमा से गिरफ़्तार

किशनगंज: जाम से निजात दिलाने के लिये रमज़ान पुल के पास नदी के ऊपर बनेगी पार्किंग

बिहार: तीसरे चरण में 60% वोटिंग, अररिया में सबसे अधिक मतदान

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest Posts

Ground Report

किशनगंज के इस गांव में बढ़ रही दिव्यांग बच्चों की तादाद

बिहार-बंगाल सीमा पर वर्षों से पुल का इंतज़ार, चचरी भरोसे रायगंज-बारसोई

अररिया में पुल न बनने पर ग्रामीण बोले, “सांसद कहते हैं अल्पसंख्यकों के गांव का पुल नहीं बनाएंगे”

किशनगंज: दशकों से पुल के इंतज़ार में जन प्रतिनिधियों से मायूस ग्रामीण

मूल सुविधाओं से वंचित सहरसा का गाँव, वोटिंग का किया बहिष्कार