बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर लोजपा अध्यक्ष चिराग पासवान ने आज अपनी पार्टी का चुनावी घोषणा पत्र जारी कर दिया। बता दें कि चिराग द्वारा घोषणा पत्र जारी किए जाने के बाद आज से उनका चुनावी दौरा भी शुरू हो गया है। आज सुबह अपनी मां का आर्शिवाद और उनके हाथ से दही चीनी खाकर चिराग अपने पार्टी दफ्तर पहुचे जहां उन्होंने अपनी पार्टी का घोषणा पत्र जारी किया।

पासवान ने घोषणा पत्र जारी करते हुए कहा कि इसमें हमारे द्वारा ‘बिहार फर्स्ट बिहारी फर्स्ट’ के दृष्टिकोण को सामने रखा गया है। चिराग पासवान ने दावा किया कि यह घोषणा पत्र बिहार की विभिन्न समस्याओं का समाधान करने में कारगर साबित होगा। साथ ही ‘बिहार फर्स्ट बिहारी फर्स्ट’ का दृष्टिकोण नया बिहार बनाने में कारगर साबित होगा।

एलजेपी सुप्रीमों इस दौरान एक बार फिर से नीतीश कुमार पर हमलावर रहे। उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार के पास अपनी सरकार की कोई उपलब्धि नहीं है। वे केंद्र सरकार की सारी योजनाओं को अपनी उपलब्धि बता रहे हैं। उन्होंने कहा कि बिहार के वर्तमान सीएम नीतीश कुमार को देखकर उन्हें आश्चर्य होता है कि वो किस तरह से जातीयता को बढ़ावा देते हैं। चिराग पासवान ने नीतीश कुमार की ओर इशारा करते हुये कहा कि जो व्यक्ति खुद सांप्रदायिकता को बढ़ावा देने में लिप्त हो तो ऐसे व्यक्ति के नेतृत्व में बिहार के विकास की कल्पना किया जाना उचित नहीं है।

चिराग यही नहीं रुके उन्होंने कहा कि यदि गलती से वर्तमान सीएम नीतीश कुमार एक बार फिर से इस चुनाव में जीत जाते हैं तो हमारा प्रदेश ‘बिहार’ हार जाएगा। चिराग पासवान ने कहा कि हमारा प्रदेश ‘बिहार’ एक बार फिर बर्बादी की कगार पर जाकर खड़ा हो जाएगा। उन्होंने यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ को भी आड़े हाथ लिया। इसके अलावा चिराग ने विजन डॉक्यूमेंट के जरिए कई बड़े वादे किए। चिराग पासवान ने अपने विजन डॉक्यूमेंट में कई बड़ी बातें कह रहे हैं।

चिराग पासवान के इस विजन डॉक्यूमेंट में कहा गया है कि सरकार बनने पर अलग से प्रवासी मजदूर मंत्रालय बनाया जाएगा। ताकि दूसरे राज्यों में रहने वाले मजदूरों से संपर्क रखा जा सके। वहीं राज्य में बड़े स्तर पर मेडिकल कॉलेज, इंजीनियरिंग कॉलेज खोलने का भी वादा किया गया है। ताकि बिहारी युवाओं को बाहर पढ़ने ना जाना पड़े। बिहार में अभी स्वास्थ्य की सही सुविधा नहीं है। अस्पतालों में डॉक्टर नहीं है, जबकि नौकरियां खाली पड़ी हैं। लोजपा ने स्वास्थ्य सुविधाएं देने का भी वादा किया है। चिराग ने इस बार किन्नरों को अपनी पार्टी से जोड़ने पर जोर दिया है और साथ में उन्हे बंगला योजना के तहत मुफ्त में घर देने की बात कही है।

इसके अलावा इस डॉक्यूमेंट में नदियों को जोड़ने की योजना, बाढ़ और सूखे की समस्या, बिहार को विशेष राज्य का दर्जा, बिहार में इन्वेस्टर्स समिट के जरिए निवेश, लैंड रिफॉर्म पर जोर, धार्मिक टूरिज्म को बढ़ावा, सीतामढ़ी को अयोध्या की तर्ज पर माता सीता का मंदिर और बिहार में दूध उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए डेनमॉर्क मॉडल अपनाने की बात कही गई है।