Thursday, October 6, 2022

कैश वैन से दो करोड़ की लूट

Must read

Main Mediahttps://mainmedia.in
This story has been done by collective effort of Main Media Team.

बिहार के किशनगंज से सटे पश्चिम बंगाल के चाकुलिया थाना अंतर्गत रामपुर के सामीप राष्ट्रीय राज मार्ग 27 पर बंदूक की नोंक पर एसआईएस कैश वैन से दो करोड़ तीन लाख रुपये लूटने का सनसनी मामला प्रकाश में आया है।

घटना के बारे में बताया जाता है कि किशनगंज स्टेट बैंक मुख्य ब्रांच से कुल दो करोड़ चालीस लाख रुपये लेकर एसआईएस के दो कैश अधिकारी दो गन मैन के साथ कैश वैन पर सवार होकर एटीएम में रुपये डालने निकले थे।

पश्चिम पाली स्थित एटीएम मशीन में कैश डालकर खगड़ा बीएसएफ कैंप के समीप एटीएम मशीन में एसआईएस के दोनों कैश अधिकारी विनय कुमार मंडल और दशरथ राउत एटीएम मशीन में पैसे डाल रहे थे, जहां पर सुरक्षा का जिम्मा गन मैन सुल्तान पर था। वहीं, दूसरा गन मैन मुहम्मद गुलजार हुसैन और ड्राइवर जमील अख्तर रुपये से भरी कैश वैन लेकर कैश वैन में डीजल भरवाने बंगाल के रामपुर स्थित पैट्रोल पंप के लिए निकले थे कि पेट्रोल पंप के नज़दीक राष्ट्रीय राज मार्ग पर उन्हें जीपीएस चेक करने का हवाला देकर कैश वैन रोकने का इशारा किया और बाद में हथियार से लैश चार अपराधियों ने रिवाल्वर की नोंक पर कैश वैन के सारे रुपये लूट लिये और एक स्कार्पियो में सवार होकर भाग निकले।

बताया जाता है कि एसबीआई ब्रांच से कुल दो करोड़ चालीस लाख रुपये निकाले थे, जिसमें से दो एटीएम में अधिकारियों के द्वारा 37 लाख रुपये डाल दिये गये थे और बाकी दो करोड़ तीन लाख रुपये कैश वैन में थे जिसे अपराधियों ने लूट लिया।

घटना की सूचना के बाद किशनगंज पुलिस दल बल के साथ घटनास्थल पर पहुंची, लेकिन घटनास्थल बंगाल की सीमा में होने से पश्चिम बंगाल की पुलिस को किशनगंज पुलिस के द्वारा सूचना दी गई, लेकिन मौके पर बंगाल पुलिस नहीं पहुंची।

किशनगंज अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी इस घटना को एसआईएस के कर्मी, गन मैन और चालक की आपस में मिलीभगत से सुनियोजित तरीके से घटना को अंजाम देने की योजना बता रहे हैं।

किशनगंज पुलिस एसआईएस के पांचों कर्मियों को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है। एसडीपीओ ने दावा किया है कि एसआईएस के कर्मी की आपस में मिलीभगत से लूट की घटना को अंजाम दिया गया है। मामले की अनुसंधान की जा रही है। पुलिस ने जल्द ही मामले का खुलासा कर लेने का दावा किया है।


स्कूल में घुसकर दलित प्रधानाध्यापिका से मारपीट, 20 दिन बाद भी गिरफ्तारी नहीं

किशनगंज: इतिहास के पन्नों में खो गये महिनगांव और सिंघिया एस्टेट


- Advertisement -spot_img

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -spot_img

Latest article