अररिया में अस्पतालों से निकलने वाले मेडिकल वेस्ट को खुली जगह पर फेंक कर हो रहा है कानून का उल्लंघन। सीएस ने कहा अगर ऐसा होता है तो कानूनी प्रावधान के अनुसार उन लोगों पर कार्रवाई होगी जिनका ये वेस्टेज है। अररिया शहर से सटे परमान नदी के किनारे त्रिसुलिया घाट पर इन दिनों मेडिकल वेस्टेज को खुलेआम इन जगहों पर फेंका जा रहा है। जबकि मेडिकल वेस्टेज को खुली जगहों पर फेकना कानूनी अपराध की श्रेणी में आता है। इस मेडिकल वेस्ट से कई घातक बीमारियां हो सकती है। त्रिसुलिया घाट पर कचरा फेंकने आए नगर परिषद के सफाई कर्मी ने बताया हमें यह कचरा डस्टबिन में पड़ा मिलता है उसे यहां लाकर फेंकते हैं इनमें मेडिकल वेस्टिज भी होता है। अररिया सीएस डॉ सुरेश प्रसाद सिन्हा ने बताया कि सदर अस्पताल के मेडिकल कचरे के कई प्रकार होते हैं इनमें ऑपरेशन थिएटर के वेस्टेज के साथ कई और कचरा होता है।

इन्हें अलग-अलग प्रकार की पॉलीथिन थैली में पैक किया जाता है और भागलपुर स्थित डिस्ट्रॉय सेंटर की गाड़ियां आकर इन्हें ले जाती है और उन्होंने वहां डिस्ट्रॉय किया जाता है। अगर कोई भी नर्सिंग होम या क्लीनिक के द्वारा खुली जगह पर मेडिकल वेस्टेज को फेंका जाता है तो उन पर कानूनी कार्रवाई की जाएगी। त्रिसूलिया घाट पर फेंके गए मेडिकल वेस्टेज कचरे की निश्चित रूप से जांच होनी चाहिए।

By: मुर्शिद रज़ा