बिहार पुलिस के डीजीपी गुप्तेश्वर पाण्डेय आजकल चर्चाओं में हैं। ऐसा लगता है कि यह दौर उनके लाइमलाइट में रहने का है। पहले सुशांत सिंह मामले में गुप्तेश्वर पाण्डेय बिहार से लोगों की अवाज बने तो, हाल ही में बिग बॉस फेम दीपक ठाकुर के एलबम में भी वो दिखाई दे चुके हैं। लाइमलाइट में रहने पर हमेशा पालिटिकल जुड़ाव की बात भी होती है। वहीं बात जब बिहार के पुलिस मुखिया की होती है तो पॉलिटिक्स में उनके आने की कयासों की बाढ़ सी आ जाती है। चुनाव लड़ने को लेकर मीडिया उनसे सवाल करती ही रहती है। ऐसे में एक बार फिर मीडिया ने उनसे चुनाव लड़ने को लेकर सवाल किया है

 

दरअसल बिहार पुलिस के मुखिया चुनावों की तैयारियों की समीक्षा करने बक्सर पहुंचे हुए थे। इस दौरान जिला अतिथि गृह में पहुंचने पर उन्हें गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया। एसपी उपेंद्र नाथ वर्मा भी जिला अतिथि गृह में मौजूद थे। डीजीपी ने एसपी से जिले का हाल जाना। वहीं इस दौरान उन्होंने पत्रकारों से भी बात की। इस दौरान पत्रकारों ने उनसे चुनाव लड़ने की बात पर सवाल पूछ लिया, इसपर पाण्डेय ने कहा कि जहां मैं जाता हूं मुझसे यह सवाल किया जाता है। आजतक जो चल रहा है वो अफवाह है।

उन्होंने आगे चुनाव लड़ने की बातों को लेकर कहा कि अगर कोई पद से इस्तीफा देकर चुनाव लड़ना चाहता है तो यह असंवैधानिक तो नहीं है। क्या चुनाव लड़ना पाप है? यह तो कोई पाप है नही। अभीतक ऐसी कोई बात नहीं है, मै इसका खंडन करता हूं। उन्होंने कहा कि राजनीति के चलते ही कार्यपालिका है, विधायिका है, हमारा सिस्टम है। तो चुनाव एक लोकतांत्रिक प्रक्रिया है, इसमें कुछ गलत नहीं है। लेकिन मेरे बारे में हमेशा ऐसी बातें होती हैं। आज के डेट में ऐसा कुछ नहीं है।

जदयू प्रदेश अध्यक्ष ने दिए संकेत

भले ही डीजीपी गुप्तेश्वर पाण्डेय इस बात को नकारें लेकिन बक्सर के जिला अध्यक्ष ने तो बातों बातों में ऐसे संकेत दे दिए हैं। बता दें कि बक्सर में बिहार पुलिस के मुखिया और जदयू के जिला अध्यक्ष के बीच बंद कमरे में घंटों तक बात हुई, जिसके कारण गुप्तेश्वर पाण्डेय के चुनाव लड़ने के कयासों की बाढ़ आई हुई है। वहीं जब इस बारे में बक्सर के जदयू जिला अध्यक्ष से पूछा गया तो उन्होंने संकेत देते हुए कहा कि अगर ऐस हुआ तो जैसे पटना में नीतीश कुमार हैं वैसे ही बक्सर में भी एक नए नीतीश कुमार होंगे। मीडिया के सवालों का जवाब हसते हुए देते हुए उन्होंने कहा कि हम चाहते हैं कि जनता अच्छे आदमी को चुने।