Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद की उम्र में जादुई घटत-बढ़त

Tanzil Asif is founder and CEO of Main Media Reported By Tanzil Asif |
Published On :

बिहार के नेता लोग अपने उम्र को लेकर कुछ ज़्यादा ही कन्फ्यूज्ड हैं। ताज़ा ताज़ा उपमुख्यमंत्री बने तारकिशोर प्रसाद के साथ भी कुछ ऐसा ही है। इस पर बात करेंगे, लेकिन इससे पहले थोड़ा नए उपमुख्यमंत्री का परिचय आपको दे दें।

तारकिशोर प्रसाद कटिहार विधासभा से लगातार चौथी बार विधायक बने हैं। बिहार चुनाव में चर्चे में रहे सीमांचल क्षेत्र से सूबे के पहले उपमुख्यमंत्री होंगे। इतना ही नहीं तकरीबन 50 साल के बाद सीमांचल के किसी नेता को बिहार सरकार में इतनी बड़ी ज़िम्मेदारी मिली है। इनसे पहले पूर्णिया के भोला पासवान शास्त्री 1968 से 1972 के बीच तीन बार मुख्यमंत्री बने, कभी 100 दिनों के लिए, कभी 13 दिनों के लिए, तो कभी लगभग सात महीने के लिए।

Also Read Story

तस्लीमुद्दीन के जन्मदिन पर RJD ने उनके नाम में जोड़ दिया ‘अंसारी’, tweet किया delete

उम्र के बाद Date of Birth भूल गए उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद?

क्या Nitish Kumar को Muslim मंत्री नहीं चाहिए?

दरभंगा में बोले शाहनवाज हुसैन — एनडीए के कमांडर हैं नीतीश कुमार

गोपालगंज मामले में आपस में भिड़ गए BJP-JDU

चुनाव से पहले फिर बनमनखी चीनी मिल खुलने की उम्मीद, मंत्री बोलीं – चुनाव का मुद्दा नहीं

किशनगंज: ग्रामीणों ने जदयू विधायक को करीब चार घंटे बनाया बंधक

अररिया: पूर्व सांसद सरफ़राज़ ने लगाया 250 करोड़ के टेंडर घोटाले का आरोप

अस्पताल में फल-दूध व गरीबों में खाना बाँट कर राजद ने मनाया लालू यादव का जन्मदिन

[wp_ad_camp_1]


उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद को वित्त, पर्यावरण, वन, सूचना प्रौद्योगिकी, आपदा प्रबंधन और शहरी विकास विभाग की भी ज़िम्मेदारी दी गयी है। 1974 के छात्र आंदोलन के दौरान राजनीति में आये। RSS और ABVP से जुड़े रहे। 1980 के बाद BJP में अलग अलग पद पर रहे। Nov 2005 वाले चुनाव में पहली बार भाजपा ने कटिहार विधानसभा से उम्मीदवार बनाया। तबसे ये जीत का सिलसिला शुरू हुआ, जो आजतक जारी है।

तारकिशोर अब तक चार विधानसभा चुनाव लड़ चुके हैं। Nov 2005, 2010, 2015 और 2020, चारों चुनाव के affidavit ऑनलाइन available हैं। Nov 2005 के affidavit के हिसाब से तब उनकी उम्र 48 साल थी, लेकिन पांच साल के बाद 2010 तक उनकी उम्र में पांच साल नहीं, बल्कि सिर्फ एक साल की वृद्धि हुई। 2010 के affidavit में उम्र 49 (उंचास) साल लिखा है। वहीँ दस साल के बाद 2015 में उनकी उम्र में सिर्फ चार साल की वृद्धि हुई। 2015 के affidavit में उम्र 52 साल लिखा है। लेकिन 2015 में जो तारकिशोर प्रसाद 52 साल के थे, पांच साल के बाद 2020 में वे 64 साल के गए। यानी पांच साल में उम्र में वृद्धि 12 साल। ये सारी जानकारियाँ उनके चुनावी affidavit से ले गयी है।

[wp_ad_camp_1]

अब सवाल ये है की उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद की उम्र असल में क्या है? बिहार विधानसभा की website में मौजूद जानकारी के अनुसार तारकिशोर प्रसाद की जन्म तिथि यानी Date of Birth 5 फरवरी 1956 है। उस हिसाब से 2020 विधानसभा के चुनाव में उनकी उम्र की जानकारी सही दी गयी है।

सीमांचल की ज़मीनी ख़बरें सामने लाने में सहभागी बनें। ‘मैं मीडिया’ की सदस्यता लेने के लिए Support Us बटन पर क्लिक करें।

Support Us

तंजील आसिफ एक मल्टीमीडिया पत्रकार-सह-उद्यमी हैं। वह 'मैं मीडिया' के संस्थापक और सीईओ हैं। समय-समय पर अन्य प्रकाशनों के लिए भी सीमांचल से ख़बरें लिखते रहे हैं। उनकी ख़बरें The Wire, The Quint, Outlook Magazine, Two Circles, the Milli Gazette आदि में छप चुकी हैं। तंज़ील एक Josh Talks स्पीकर, एक इंजीनियर और एक पार्ट टाइम कवि भी हैं। उन्होंने दिल्ली के भारतीय जन संचार संस्थान (IIMC) से मीडिया की पढ़ाई और जामिआ मिलिया इस्लामिआ से B.Tech की पढ़ाई की है।

Related News

बिहार चुनाव: AIMIM ने की 32 सीटों पर चुनाव लड़ने की घोषणा, किशनगंज का ज़िक्र नहीं

मोदी ने पूछा- रेप के आरोपी अरुण यादव को राबड़ी देवी ने कहाँ छिपाया है? RJD बोली- अपनी पत्नी से पूछो

JDU विधायक की गिरफ्तारी की मांग कर रहे तेजस्वी यादव पर FIR दर्ज, तेजस्वी ने कहा- नीतीश कुमार हमें डरा नहीं सकते

जदयू विधायक को ‘कर्तव्य याद दिलाने के लिए’ युवक ने किया मास्क-सेनेटाइजर भेंट

कटिहार: गोपालगंज जा रहे बरारी विधायक नीरज यादव को प्रशासन ने रोका

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest Posts

Ground Report

मूल सुविधाओं से वंचित सहरसा का गाँव, वोटिंग का किया बहिष्कार

सुपौल: देश के पूर्व रेल मंत्री और बिहार के मुख्यमंत्री के गांव में विकास क्यों नहीं पहुंच पा रहा?

सुपौल पुल हादसे पर ग्राउंड रिपोर्ट – ‘पलटू राम का पुल भी पलट रहा है’

बीपी मंडल के गांव के दलितों तक कब पहुंचेगा सामाजिक न्याय?

सुपौल: घूरन गांव में अचानक क्यों तेज हो गई है तबाही की आग?