Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

बिहार राज्य विद्यालय अध्यापक नियमावली, 2023 को कैबिनेट की मुहर

कैबिनेट से शिक्षक नियुक्ति की नई नियमावली को मंजूरी के बाद करीब तीन लाख शिक्षकों की भर्ती का रास्ता साफ हो गया। इसके साथ शिक्षक नियुक्ति की पुरानी सभी इकाइयों को भंग कर दिया गया है।

Navin Kumar Reported By Navin Kumar |
Published On :

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अध्यक्षता में कैबिनेट की बैठक में कई एजेंडों पर मुहर लगाई गई है। कैबिनेट ने राज्य में शिक्षक बहाली के लिए नई नियमावली को मंजूरी दे दी है।

कैबिनेट से शिक्षक नियुक्ति की नई नियमावली को मंजूरी के बाद करीब तीन लाख शिक्षकों की भर्ती का रास्ता साफ हो गया। इसके साथ शिक्षक नियुक्ति की पुरानी सभी इकाइयों को भंग कर दिया गया है। नई नियमावली के अनुसार शिक्षक भी राज्यकर्मी का दर्जा पा सकेंगे। नई नियमावली के अनुसार, शिक्षक बहाली के लिए राज्य सरकार द्वारा जल्द ही आयोग का गठन किया जाएगा।

Also Read Story

कटिहार: NEET UG परीक्षा में “धांधली” को लेकर NSUI का प्रदर्शन, NTA को बताया ‘नेशनल ठग एजेंसी’

BSEB सक्षमता परीक्षा में सफल शिक्षकों की काउंसिलिंग जल्द, विभाग ने जिलों से मांगी रिक्ति 

भीषण गर्मी के कारण बिहार के स्कूलों में फिर हुई छुट्टी, 15 जून तक रहेंगे बंद

NEET UG परीक्षा में ग्रेस अंक देने पर विवाद, अच्छे मार्क्स लाने के बावजूद छात्र चिंतित, “नहीं मिलेंगे अच्छे कॉलेज”

BPSC TRE-1 में बहाल बिहार से बाहर की दर्जन भर शिक्षिकाओं की गई नौकरी, CTET में थे 60% से कम अंक

मदरसा बोर्ड भंग करने के बाद सरकार ने बोर्ड को दिया 75 लाख रुपये का अनुदान

केके पाठक छुट्टी पर, सीएम के प्रधान सचिव डॉ. एस सिद्धार्थ को मिली ज़िम्मेदारी

शिक्षा विभाग ने हाइकोर्ट के फ़ैसले के बाद गेस्ट टीचर को दिया वेटेज, फैसले के विरुद्ध दायर करेगा अपील

बिहार: भीषण गर्मी और लू की वजह से 8 जून तक स्कूल रहेंगे बंद

शिक्षकों को राज्यकर्मी का दर्जा

शिक्षक पात्रता परीक्षा पास अभ्यर्थियों को शिक्षक बनाने के लिए बिहार कैबिनेट ने “बिहार राज्य विद्यालय अध्यापक (नियुक्ति, स्थानांतरण, अनुशासनिक कार्यवाई एवं सेवाशर्त) नियमावली, 2023” को स्वीकृति दी है। नई नियमावली के अनुसार नियुक्त हुए शिक्षकों को राज्यकर्मी का दर्जा दिया जायेगा और पहले से नियोजित शिक्षकों को राज्यकर्मी बनने लिए प्रतियोगी परीक्षा में शामिल होना होगा। नई नियमावली में तीन परीक्षाओं का प्रावधान किया गया है। शिक्षक बहाली के लिए न्यूनतम उम्र सीमा 21 वर्ष कर दी गई है। स्थानीय निकाय स्तर पर बहाली की प्रक्रिया को खत्म कर दिया गया है।


मंत्रिमंडल सचिवालय विभाग के अपर मुख्य सचिव एस सिद्धार्थ ने प्रेस कांफ्रेंस में बताया, “बिहार राज्य विद्यालय अध्यापक (नियुक्ति, स्थानांतरण, अनुशासनिक कार्यवाई एवं सेवाशर्त) नियमावली, 2023 के तहत अब जिन भी शिक्षकों की नियुक्तियां राज्य सरकार करेंगी, वे राज्य कर्मी होंगे। इससे पूर्व राज्य में स्थानीय निकायों के शिक्षक रहा करते थे। अब जो भी नई नियुक्ति होगी, वह राज्य सरकार करेगी। राज्य सरकार नियुक्ति के लिए एक अलग परीक्षा आयोग के माध्यम से लेगी जिसका निर्धारण राज्य सरकार आयोग करेगा। परीक्षा के माध्यम से ही अब नियुक्तियां होंगी।”

नियुक्ति हेतु अनिवार्य अर्हता

  1. भारत के नागरिक हो और बिहार राज्य के स्थायी निवासी होना चाहिए।
    2. विद्यालय अध्यापक के पद पर नियुक्ति हेतु राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद द्वारा समय-समय पर निर्धारित शैक्षणिक एवं प्रशैक्षणिक योग्यता धारित करता हो। विशेष विद्यालय अध्यापक के लिए अर्हता भारतीय पुनर्वास परिषद के अनुरूप अनुमान्य होगा।
    3. राज्य सरकार व केंद्र सरकार द्वारा समय-समय पर आहूत शिक्षक पात्रता परीक्षा में उत्तीर्ण हो।
    परंतु वर्ष 2012 से पूर्व नियुक्त व कार्यरत शिक्षक जो दक्षता परीक्षा उत्तीर्ण होंगे, के लिए शिक्षक पात्रता परीक्षा में उत्तीर्णता अनिवार्य नहीं होगी।
    4. विषय विशेष के लिए अलग से विशेष अर्हता का निर्धारण विभाग द्वारा समय-समय पर किया जाएगा।

आरक्षण का नियम

  1.  राज्य सरकार के अधीन सीधी नियुक्ति में सामान्य प्रशासन विभाग के द्वारा लागू आरक्षण का प्रावधान प्रभावी होगा।
    परंतु प्राथमिक एवं मध्य विद्यालय के मूल कोटि एवं स्नातक कोटि के विद्यालय अध्यापक के पद पर प्रत्येक विषय में न्यूनतम 50% महिला अभ्यर्थियों की नियुक्ति की जाएगी। विषय संख्या रहने पर अंतिम पद महिला अभ्यर्थि के लिए चिन्हित किया जाएगा।
  2. इस नियमावली के प्रवृत्त होने के बाद प्रथम समव्यवहार में विद्यालय अध्यापक के पद पर नियुक्ति हेतु आरक्षण बिंदु 01 से रोस्टर प्रारंभ होगा।

कोई अभ्यर्थी इस नियमावली के अंतर्गत अधिकतम तीन बार परीक्षा में भाग ले सकेगा।

राज्य और केंद्र सरकार द्वारा ली जाने वाली पात्रता परीक्षा (TET, STET, CTET) क्वालीफाई करने के बाद ही अभ्यर्थी, कमीशन के माध्यम से जो परीक्षा होगी उसमें बैठ पाएंगे और फिर उसके माध्यम से बहाली होगी।

bihar teacher niyamawali new

 

bihar teacher niyamawali

बता दें कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की कैबिनेट ने कुल 6 एजेंडों को स्वीकृति दी है।

राज्यकर्मियों का महंगाई भत्ता बढ़ा

कैबिनेट की बैठक में राज्य कर्मियों का महंगाई भत्ता बढ़ाने के एजेंडे पर भी मुहर लगा दी गई है। कर्मियों का महंगाई भत्ता 4% तक बढ़ा दिया गया है। 1 जनवरी 2023 से महंगाई भत्ता लागू हो जायेगा। अब कर्मियों का महंगाई भत्ता 38% से बढ़कर 42% हो जायेगा। राज्य कर्मियों के अलावा पेंशन कर्मी भी महंगाई भत्ता का लाभ उठाएंगे।

इसके अलावा नीतीश कैबिनेट की बैठक में बिहार आकस्मिकता निधि को 350 करोड़ से बढ़ाकर 10,000 करोड़ (दस हज़ार करोड़) रुपये अस्थाई रूप से करने की स्वीकृति दी गई है।

सीमांचल की ज़मीनी ख़बरें सामने लाने में सहभागी बनें। ‘मैं मीडिया’ की सदस्यता लेने के लिए Support Us बटन पर क्लिक करें।

Support Us

नवीन कुमार बिहार के मुजफ्फरपुर जिले के रहने वाले हूं। आईआईएमएससी दिल्ली से पत्रकारिता की पढ़ाई की है। अभी स्वतंत्र पत्रकारिता करते हैं। सामाजिक विषयों में रुचि है। बिहार को जानने और समझने की निरंतर कोशिश जारी है।

Related News

पूर्णिया: डीपीओ पर शिक्षकों को अपमानित करने का आरोप, शिक्षकों का हंगामा

किशनगंज: निरीक्षण के दौरान अनुपस्थित पाये गये शिक्षकों के वेतन में कटौती

सोशल मीडिया पर कमेंट करना शिक्षिका को पड़ा महंगा, कटा वेतन

स्कूलों में गर्मी की छुट्टी बढ़ाने के लिये राज्यपाल ने मुख्य सचिव को लिखा पत्र

सरकारी स्कूलों में तय मानक के अनुरूप नहीं हुई बेंच-डेस्क की सप्लाई

दूसरे राज्यों की महिला शिक्षकों को पात्रता परीक्षा के उत्तीर्णांक में नहीं मिलेगी छूट, जायेगी नौकरी

स्कूलों के नये टाइम-टेबल को बदलने की मांग क्यों कर रहे बिहार के शिक्षक?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest Posts

Ground Report

किशनगंज के इस गांव में बढ़ रही दिव्यांग बच्चों की तादाद

बिहार-बंगाल सीमा पर वर्षों से पुल का इंतज़ार, चचरी भरोसे रायगंज-बारसोई

अररिया में पुल न बनने पर ग्रामीण बोले, “सांसद कहते हैं अल्पसंख्यकों के गांव का पुल नहीं बनाएंगे”

किशनगंज: दशकों से पुल के इंतज़ार में जन प्रतिनिधियों से मायूस ग्रामीण

मूल सुविधाओं से वंचित सहरसा का गाँव, वोटिंग का किया बहिष्कार