Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

अग्निपथ योजना पर आर्मी अभ्यर्थियों का दर्द – ‘सरकार हमारे सपनों से खेल रही है’

Tanzil Asif is founder and CEO of Main Media Reported By Tanzil Asif |
Published On :

तलब करें तो ये आँखें भी इन को दे दूँ मैं
मगर ये लोग इन आँखों के ख़्वाब माँगते हैं

देश में अग्निवीर योजना लागू होने के बाद सेना भर्ती की तैयारी कर रहे युवाओं की कहानी बयान करने के लिए यह एक शेर काफी है। दिल में देश सेवा का जूनून लिए ये युवा अपना और अपने परिवार का भविष्य संवारने का ख्वाब देख रहे थे। लेकिन, एक झटके में सब बदल गया। पिछले महीने सरकार ने आर्मी में नौकरी के परम्परागत नियम को दरकिनार करते हुए अग्निवीर नाम से नई योजना की घोषणा की। नई योजना के तहत पुरानी भर्ती प्रक्रिया के जरिए अब महज चार वर्षों के लिए युवाओं की सेना में भर्ती होगी।

Also Read Story

पश्चिम बंगाल: स्कूल में पहली मंज़िल बना दिया पर ऊपर चढ़ने को सीढ़ी नहीं

पूर्णिया: पाकिस्तानी झंडे की अफवाह के बाद मीडिया ने महिला को किया प्रताड़ित

बिहार में उग रहे हिमाचल के सेब, कम जोखिम में बढ़िया कमाई

खराब सड़क इस गांव की शिक्षा, स्वास्थ्य और खेती पर डाल रही बुरा असर

दार्जिलिंग: भूस्खलन से बर्बाद सड़क की नहीं हुई मरम्मत, चाय बागान श्रमिक परेशान

सहरसा के इस गांव में नल-जल का हाल बुरा, साफ पानी को तरसते लोग

जातिगत जनगणना क्या होती है? इसके क्या फ़ायदे, क्या नुक़सान हैं?

“मेरा कोई पूंजीपति मित्र नहीं, स्वतंत्र रूप से काम करूँगा” – इंद्रदेव पासवान

ज़ीरो बजट इलेक्शन मेरा लक्ष्य था: इम्तियाज़ नसर

army aspirants in katihar

इस सेवा में आने वाले युवाओं को अग्निवीर कहा जाएगा। चार वर्ष की अवधि पूरा करने वालों में से 25 प्रतिशत अग्नि वीरों को आर्मी में आवश्यकता के आधार पर कड़ी भर्ती प्रक्रिया के जरिए स्थाई सेवा में बहाल किया जाएगा। यानी कि अब आर्मी में जवानों की नौकरी चार साल की होगी और जितने लोग इस स्कीम के तहत भर्ती होंगे, उनमें से अधिकतम 25 प्रतिशत को ही स्थाई नौकरी मिलेगी। अन्य युवाओं को दूसरी नौकरियां तलाशनी होगी।


ऐसे में स्थाई नौकरी की उम्मीद में आर्मी की तैयारी कर रहे युवाओं में इस योजना को लेकर गुस्सा है। बहुत सारे युवाओं ने 2021 की शुरुआत में मेडिकल टेस्ट क्वालीफाई कर लिया था और पिछले 15 महीने से रिटेन टेस्ट के इंतज़ार में थे। इन में से ज़्यादातर गरीब और मध्यम वर्गीय परिवार से आते हैं। इनके परिवार ने कर्ज़ लेकर बच्चों को सेना भर्ती की तैयारी के लिए घर से दूर कटिहार शहर के एक निजी संस्थान में भेजा है।

army aspirants practicing

15 महीने का इंतज़ार

कटिहार के अमदाबाद के रहने वाले त्रिलोक कुमार मंडल मज़दूर परिवार से आते हैं। बचपन से आर्मी में सेवा देने का जुनून था। 2018 में उन्होंने सेना भर्ती की तैयारी शुरू की थी। मार्च 2021 में उन्होंने फिजिकल और मेडिकल टेस्ट भी क्वालीफाई कर लिया, लेकिन उसके सेना भर्ती के लिए आगे का एग्जाम ही नहीं हुआ। लेकिन 15 महीने का इंतज़ार व्यर्थ चला गया।

त्रिलोक की तरह करण कुमार मंडल भी एक गरीब किसान परिवार से आते हैं और तीन वर्षों से आर्मी की तैयारी कर रहे हैं। उसी जुनून के साथ उन्होंने भी पिछले साल ही मेडिकल टेस्ट क्वालीफाई कर लिया था। लेकिन, अग्निपथ योजना आते ही उनकी उम्मीदें टूट गई हैं।

करण ने बारवीं पास करते ही सेना भर्ती का पहला पड़ाव पार लिया था, उन्हें पूरा भरोसा था कि रिटेन टेस्ट बड़ी आसानी से निकल जाता।

army aspirants

परिवार पर क़र्ज़

पूर्णिया के रहने वाले नरेंद्र कुमार शाह ने बचपन से बस आर्मी ज्वाइन करने का ख्वाब देखा है। उनके मज़दूर पिता प्रति माह 4000 रुपये क़र्ज़ लेकर उन्हें संस्थान में पढ़ाई करवा रहे हैं। लेकिन अग्निपथ ने उन्हें अंदर से तोड़ सा दिया है। उन्हें नहीं पता कि परिवार का क़र्ज़ कैसे उतरेगा। चार साल की नौकरी वाले से शादी कौन करेगा। आगे क्या होगा।

पूर्णिया के ही रहने वाले पप्पू कुमार भी तीन साल से आर्मी की तैयारी कर रहे हैं। और ये उनके लिए ये आखिरी मौका है। इस बार क्वालीफाई करने का पूरा भरोसा था। लेकिन, उन्हें अब दूसरी फ़िक्र सता रही है। अब वो क्वालीफाई कर भी जाएँ, तो पढ़ाई के लिए लिया गया क़र्ज़ चुका पाएंगे या नहीं।


यह भी पढ़ें: ‘मरम्मत कर तटबंध और कमज़ोर कर दिया’


मुंगेर ज़िले से कटिहार आकर आर्मी की तैयारी कर रहे सुमन कुमार यादव और उनके भाई दो सालों से सेना भर्ती की तैयारी कर रहे हैं। उनका गरीब परिवार तीन लाख के क़र्ज़ में डूबा है। माता-पिता इसी उम्मीद में थे कि दोनों भाइयों के सेना में जाने के बाद परिवार का आर्थिक बोझ कम होगा।

brothers preparing for army

सपनों से खिलवाड़

आर्मी भर्ती का जूनून कुंदन कुमार शर्मा और आशीष राजभर को उत्तर प्रदेश के बलिया और जौनपुर ज़िले से 500-600 किलोमीटर दूर बिहार के कटिहार ले आई, लेकिन अब उन्हें लगता है कि अग्निपथ लाकर सरकार उनकी ज़िन्दगी से खिलवाड़ कर रही है।

राजनीतिक परिवार से आने वाले आशीष राजभर पहले भाजपा के समर्थक थे। पिता जौनपुर में गाँव के प्रधान हैं। लेकिन, अग्निपथ योजना से निराश हो कर आगे भाजपा को समर्थन से इंकार करते हैं।

युवाओं में रोष के मद्देनजर केंद्र सरकार का कहना है कि इस योजना के तहत जो युवा अग्निवीर बनकर निकलेंगे, उन्हें अन्य सार्वजनिक क्षेत्रों में वरीयता दी जाएगी। कुछ राज्य सरकारों ने भी ऐसी ही घोषणा की है। लेकिन, युवाओं को ये ऑफर आकर्षित नहीं कर पा रहे। वे पुरानी प्रक्रिया को ही बहाल रखने की मांग कर रहे हैं।

इस बीच सरकार ने नई स्कीम के तहत भर्ती के लिए अधिसूचना भी जारी कर चुकी है। युवा इसमें भाग ले भी रहे हैं, लेकिन उनमें वो उत्साह नहीं, जो नियमित भर्ती के दौरान हुआ करता था। वहीं, दूसरी तरफ युवाओं का एक बड़ा वर्ग इस स्कीम को छलावा मान रहा है।


लाइफलाइन एक्सप्रेस ट्रेन कटिहार में दे रही स्वास्थ्य सेवा

Purnea Airport: किसानो ने कहा – जान दे देंगे, लेकिन जमीन नहीं


सीमांचल की ज़मीनी ख़बरें सामने लाने में सहभागी बनें। ‘मैं मीडिया’ की सदस्यता लेने के लिए Support Us बटन पर क्लिक करें।

Support Us

तंजील आसिफ एक मल्टीमीडिया पत्रकार-सह-उद्यमी हैं। वह 'मैं मीडिया' के संस्थापक और सीईओ हैं। समय-समय पर अन्य प्रकाशनों के लिए भी सीमांचल से ख़बरें लिखते रहे हैं। उनकी ख़बरें The Wire, The Quint, Outlook Magazine, Two Circles, the Milli Gazette आदि में छप चुकी हैं। तंज़ील एक Josh Talks स्पीकर, एक इंजीनियर और एक पार्ट टाइम कवि भी हैं। उन्होंने दिल्ली के भारतीय जन संचार संस्थान (IIMC) से मीडिया की पढ़ाई और जामिआ मिलिया इस्लामिआ से B.Tech की पढ़ाई की है।

Related News

किशनगंज: कृषि राज्य मंत्री कैलाश चौधरी ने कहा- “शराब माफिया और भूमाफिया चला रहे बिहार”

2024 व 2025 के चुनाव के लिए फिर खुद को मजबूत कर रही AIMIM

अररिया: एक महीने से लगातार इस गांव में लग रही आग, 100 से अधिक घर जलकर राख

कटिहार में महादलितों के लिए बनी आवासीय अंबेडकर कॉलोनी जर्जर

कटिहार: पूर्व मेयर, डिप्टी मेयर पर भ्रष्टाचार का आरोप, पीआईएल दायर

Orange Farming in Darjeeling: संतरे के लिए प्रख्यात दार्जिलिंग में संतरा उत्पादन दम तोड़ रहा

सारण में शराब पीकर ट्रेन में सवार व्यक्ति की ट्रेन में ही मौत

9 thoughts on “अग्निपथ योजना पर आर्मी अभ्यर्थियों का दर्द – ‘सरकार हमारे सपनों से खेल रही है’

  1. Bhai log kasam khalo kisne hamare sapno se khela hai usko kabhi jindagi me support nahi karege

  2. मोदी टीओडी कानून लाकर मध्यम वर्ग को खत्म करने पर तुला है। 2024 में मोदी को पटकनी दो । राजस्थान में तो खलास है।

  3. Ha yr 2 saal se paper ki tyari kr raha tha . Ab samjh nhi aa raha kya kru . Over age ho gya hu😔😔

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latests Posts

Ground Report

जर्जर भवन में जान हथेली पर रखकर पढ़ते हैं कदवा के नौनिहाल

ग्राउंड रिपोर्ट: इस दलित बस्ती के आधे लोगों को सरकारी राशन का इंतजार

डीलरों की हड़ताल से राशन लाभुकों को नहीं मिल रहा अनाज

बिहार में क्यों हो रही खाद की किल्लत?

किशनगंज: पक्की सड़क के अभाव में नारकीय जीवन जी रहे बरचौंदी के लोग