Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

किशनगंज: कांग्रेस MP ने AMU के गर्ल्स हॉस्टल का क्रेडिट लिया, तो JD(U) ने जताई आपत्ति

AMU के VC प्रोफेसर तारिक मंसूर ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से बिहार के किशनगंज केंद्र में अल्पसंख्यक बालिका छात्रावास की आधारशिला रखी।

Main Media Logo PNG Reported By Main Media Desk |
Published On :

बिहार के सीमांचल में इन दिनों अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (AMU) किशनगंज के लिए फंड के मांग को लेकर सोशल मीडिया पर जोरशोर से कैंपेन चल रहा है। इसी बीच मंगलवार को AMU के VC प्रोफेसर तारिक मंसूर ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से बिहार के किशनगंज केंद्र में अल्पसंख्यक बालिका छात्रावास की आधारशिला रखी। नए छात्रावास का निर्माण अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय द्वारा उपलब्ध कराए गए 10.50 करोड़ रुपये से किया जाएगा।

“मैं अल्पसंख्यक मामलों के मंत्रालय, बिहार सरकार और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को उनके उदार समर्थन के लिए हृदय से आभार व्यक्त करता हूं”, कुलपति ने कहा।

Also Read Story

कटिहार: NEET UG परीक्षा में “धांधली” को लेकर NSUI का प्रदर्शन, NTA को बताया ‘नेशनल ठग एजेंसी’

BSEB सक्षमता परीक्षा में सफल शिक्षकों की काउंसिलिंग जल्द, विभाग ने जिलों से मांगी रिक्ति 

भीषण गर्मी के कारण बिहार के स्कूलों में फिर हुई छुट्टी, 15 जून तक रहेंगे बंद

NEET UG परीक्षा में ग्रेस अंक देने पर विवाद, अच्छे मार्क्स लाने के बावजूद छात्र चिंतित, “नहीं मिलेंगे अच्छे कॉलेज”

BPSC TRE-1 में बहाल बिहार से बाहर की दर्जन भर शिक्षिकाओं की गई नौकरी, CTET में थे 60% से कम अंक

मदरसा बोर्ड भंग करने के बाद सरकार ने बोर्ड को दिया 75 लाख रुपये का अनुदान

केके पाठक छुट्टी पर, सीएम के प्रधान सचिव डॉ. एस सिद्धार्थ को मिली ज़िम्मेदारी

शिक्षा विभाग ने हाइकोर्ट के फ़ैसले के बाद गेस्ट टीचर को दिया वेटेज, फैसले के विरुद्ध दायर करेगा अपील

बिहार: भीषण गर्मी और लू की वजह से 8 जून तक स्कूल रहेंगे बंद

AMU VC

उन्होंने कहा: “हमने केंद्र के लिए पदों और धन की मंजूरी के लिए शिक्षा मंत्रालय को एक विस्तृत प्रस्ताव भी भेजा था, जिस पर हाल ही में मंत्रालय की एक बैठक में विचार किया गया था।”


प्रो मंसूर ने बताया कि नया छात्रावास अल्पसंख्यक छात्राओं को विशेष रूप से सीमांचल क्षेत्र के छात्रों की मदद करेगा, क्योंकि महिला शिक्षा के लिए कई और शैक्षणिक संस्थानों की आवश्यकता है।

“किशनगंज केंद्र में मैनेजमेंट स्टडीज प्रोग्राम है और हम बीएड का कोर्स दोबारा शुरू करना चाहते हैं। साथ ही बीए एलएलबी का नया कोर्स भी शुरू करने का इरादा है।”, उन्होंने कहा।

लेकिन इस शिलान्यास के साथ ही किशनगंज के नेताओं के बीच क्रेडिट लेने की लड़ाई शुरू हो गई है।

कांग्रेस कोटे से किशनगंज सासंद डॉ मोहम्मद जावेद इसका श्रेय खुद लेने की कोशिश की और फेसबुक पर लिखा, “सांसद ने अल्पसंख्यक मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी से हाॅस्टल के लिए फंड जारी करने का अनुरोध किया था। केंद्र सरकार और बिहार सरकार ने 10.5 करोड़ रुपए आवंटित किया और एएमयू के वीसी तारिक मंसूर ने गर्ल्स हॉस्टल का शिलान्यास किया।”

Kishanganj MP

उसके जवाब में जदयू प्रदेश उपाध्यक्ष सह पूर्व विधायक मुजाहिद आलम व्यंग्य के लहजे में कहा कि फंड जारी होने में सांसद की कोई भूमिका नहीं है।

उन्होंने कांग्रेस सांसद के फेसबुक पोस्ट पर प्रतिक्रिया में लिखा, “इतनी तेज गति से फंड दिलाने के लिए माननीय सांसद महोदय का आभार कि उन्होंने 09 दिसम्बर 2021 को केन्द्रीय अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री जनाब मुख्तार अब्बास नकवी को पत्र लिखा और और पत्र लिखने के डेढ़ महीने के अन्दर फंड भी मिल गया, स्वीकृति भी हो गई और टेंडर भी हो गया और काम भी शुरू हो गया। है न कमाल की बात!”

JDU VP

इसके बाद मुजाहिद आलम इस प्रोजेक्ट के होने के पीछे की वजह बताते हैं। वे लिखते हैं, “दिसम्बर 2019 को एएमयू किशनगंज सेंटर के डायरेक्टर डाॅ. हसन ईमाम बिहार के माननीय मुख्यमंत्री से मिलकर बिहार सरकार द्वारा उपलब्ध कराए गए Boys &Girls Minority Hostel के लिए अतिरिक्त भवनों/बेडस् की मांग की थी ताकि दूसरे कोर्स की पढ़ाई शुरू हो सके। माननीय मुख्यमंत्री ने इस संबंध में शिक्षा विभाग के प्रधान सचिव आर के महाजन और अल्पसंख्यक कल्याण विभाग के प्रधान सचिव आमिर सुबहानी साहब को इस पर त्वरित कार्रवाई का निर्देश दिया। तत्पश्चात 100-100 बेड के दो भवनों की स्वीकृति एमएसडीपी/प्रधानमंत्री जन विकास कार्यक्रम से हुई।”

“पांच करोड़ की लागत से 100 बेड के निर्माण का कार्य अंतिम चरण में है जबकि 5.47 करोड़ की लागत से दूसरे 100 बेड के भवन का अभी ले आउट हुआ है। उक्त दोनों 100-100 बेड के भवनों का आज एएमयू के वीसी ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से शिलान्यास किया है,” मुजाहिद आलम ने लिखा।

मुजाहिद आलम ने सांसद द्वारा फंड के लिए लिखे गये पत्र को लेकर फेसबुक पर लिखा, “सांसद महोदय ने जिस फंड के लिए माननीय मंत्री को पत्र लिखा है, उसको लेकर पांच दिसम्बर 2019 को उन्होंने एएमयू के वीसी प्रो तारिक मंसूर साहब से मिलकर बात की थी। वीसी साहब ने एनजीटी का हवाला देकर उक्त फंड के लिए प्रोपोजल बढ़ाने पर अपनी असमर्था जताई थी। फिर छह दिसम्बर को माननीय अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री भारत सरकार से मिलकर पत्र सौंपा था।”

“07 जनवरी 2020 को मुझे अल्पसंख्यक कल्याण मंत्रालय भारत सरकार द्वारा पत्र के माध्यम से सूचित किया गया कि एएमयू किशनगंज सेंटर को प्रधानमंत्री जन विकास कार्यक्रम के तहत हास्टल निर्माण के लिए पचास करोड़ देने का प्रोपोजल एनजीटी इंजकशन के कारण एएमयू ने वापस ले लिया है,” वे आगे लिखते हैं।

सीमांचल की ज़मीनी ख़बरें सामने लाने में सहभागी बनें। ‘मैं मीडिया’ की सदस्यता लेने के लिए Support Us बटन पर क्लिक करें।

Support Us

Main Media is a hyper-local news platform covering the Seemanchal region, the four districts of Bihar – Kishanganj, Araria, Purnia, and Katihar. It is known for its deep-reported hyper-local reporting on systemic issues in Seemanchal, one of India’s most backward regions which is largely media dark.

Related News

पूर्णिया: डीपीओ पर शिक्षकों को अपमानित करने का आरोप, शिक्षकों का हंगामा

किशनगंज: निरीक्षण के दौरान अनुपस्थित पाये गये शिक्षकों के वेतन में कटौती

सोशल मीडिया पर कमेंट करना शिक्षिका को पड़ा महंगा, कटा वेतन

स्कूलों में गर्मी की छुट्टी बढ़ाने के लिये राज्यपाल ने मुख्य सचिव को लिखा पत्र

सरकारी स्कूलों में तय मानक के अनुरूप नहीं हुई बेंच-डेस्क की सप्लाई

दूसरे राज्यों की महिला शिक्षकों को पात्रता परीक्षा के उत्तीर्णांक में नहीं मिलेगी छूट, जायेगी नौकरी

स्कूलों के नये टाइम-टेबल को बदलने की मांग क्यों कर रहे बिहार के शिक्षक?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest Posts

Ground Report

किशनगंज के इस गांव में बढ़ रही दिव्यांग बच्चों की तादाद

बिहार-बंगाल सीमा पर वर्षों से पुल का इंतज़ार, चचरी भरोसे रायगंज-बारसोई

अररिया में पुल न बनने पर ग्रामीण बोले, “सांसद कहते हैं अल्पसंख्यकों के गांव का पुल नहीं बनाएंगे”

किशनगंज: दशकों से पुल के इंतज़ार में जन प्रतिनिधियों से मायूस ग्रामीण

मूल सुविधाओं से वंचित सहरसा का गाँव, वोटिंग का किया बहिष्कार