Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

जदयू के कमजोर होने के दावे के बीच पार्टी कैसे बन गई किंगमेकर?

जदयू के पास 16 से 20 प्रतिशत वोट बैंक है, जो वर्ष 2005 में पहली बार नीतीश कुमार के मुख्यमंत्री बनने से लेकर अब तक कमोबेश कायम है। हालांकि, दिलचस्प बात ये भी है कि जदयू जब भाजपा के साथ रहता है तो उसका वोट शेयर बढ़ता है, मगर राजद के साथ आने पर वोट शेयर में गिरावट आती है। ये बताता है कि भाजपा वोटरों के लिए नीतीश कुमार स्वीकार्य हैं, लेकिन जदयू वोटरों को राजद स्वीकार्य नहीं है।

Reported By Umesh Kumar Ray |
Published On :

साल 2020 के बिहार विधानसभा चुनाव में जनता दल (यूनाइटेड)-जदयू को महज 44 सीटें मिली थीं और वह खिसक कर तीसरे नंबर पर आ गया था, जिसके चलते एनडीए गठबंधन में पार्टी की स्थिति कमजोर हो गई थी। फिर अगस्त 2022 में नीतीश कुमार ने अपना गठबंधन बदल लिया और एनडीए को छोड़ महागठबंधन में शामिल हो गये। नये गठबंधन में डेढ़ साल भी नहीं बीता था कि वह दोबारा एनडीए में चले गये और नौवीं बार मुख्यमंत्री पद की शपथ ली।

एनडीए गठबंधन में उनकी कमजोर स्थिति और फिर बार बार उनके गठबंधन बदलने के चलते राजनीतिक हलकों में ये कयास लगाये जा रहे थे कि 2024 के आम चुनाव में जदयू को भारी नुकसान होगा और जदयू सियासी तौर पर काफी कमजोर हो जाएगा। अखबारी रिपोर्टिंग से लेकर एग्जिट पोल तक में जदयू के कमजोर हो जाने की बातें कही जा रही थीं। सूत्रों की मानें तो जदयू के नेता खुद भी ये मान रहे थे कि पार्टी कमजोर हो चुकी है और अगर वह इंडिया गठबंधन के साथ चुनाव लड़ेगी, तो और कमजोर हो जाएगी। माना जाता है कि इसी वजह से इंडिया गठबंधन से नाता तोड़ कर नीतीश कुमार एनडीए के साथ चले गये थे।

Also Read Story

लोकसभा चुनाव 2024: किशनगंज में कैसे कांग्रेस ने फिर एक बार जदयू व AIMIM को दी पटखनी?

वायरल ऑडियो: क्या किशनगंज में भाजपा नेताओं ने अपना वोट कांग्रेस के तरफ ट्रांसफर कराया?

पप्पू यादव कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे से मिले, कांग्रेस को दिया अपना समर्थन

लोकसभा चुनाव 2024: पूर्णिया में दो बार के सांसद संतोष कुशवाहा को हराकर कैसे जीते पप्पू यादव?

लोकसभा चुनाव 2024: अररिया से क्यों हार गए राजद के शाहनवाज़?

हार के बाद उपेंद्र कुशवाहा बोले, पवन सिंह फैक्टर बना या बनाया गया सबको मालूम है

“कुछ लोगों ने साथ रह कर धोखा दिया”, किशनगंज से हार पर बोले जदयू प्रत्याशी मुजाहिद आलम

पूर्णिया: हार पर भावुक हुए संतोष कुशवाहा, कहा, “निश्चित तौर पर मेरी ही सेवा में कोई कमी रह गई”

लोकसभा चुनाव 2024 में जीते हैं सिर्फ 24 मुस्लिम सांसद, 14% आबादी की 4% हिस्सेदारी!

मगर चुनाव परिणाम ने सारे कयासों पर पूर्णविराम लगा दिया। जदयू ने 16 में से 12 सीटों पर जीत दर्ज की और किंगमेकर के तौर पर उभरा। हालांकि, वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव के मुकाबले उन्हें चार सीटों का नुकसान हुआ है, लेकिन भाजपा को राष्ट्रीय स्तर पर कम सीटें मिलने के कारण जदयू की भूमिका बढ़ गई है।


जदयू का वोट शेयर

जदयू सुप्रीमो नीतीश कुमार, कुर्मी जाति से ताल्लुक रखते हैं और बिहार में कुर्मी जाति की आबादी लगभग 2.87 प्रतिशत है, जो संख्याबल में एक प्रभावशाली समूह नहीं है। मगर, इसके बावजूद बिहार में पिछले लगभग दो दशकों से जदयू एक प्रभावशाली पॉलिटिकल फोर्स बना हुआ है। यही वजह है कि बार बार गठबंधन बदलने की आदत के बावजूद भाजपा और राजद, दोनों नीतीश कुमार के साथ गठबंधन करने को सदा तैयार रहते हैं।

जदयू के पास 16 से 20 प्रतिशत वोट बैंक है, जो वर्ष 2005 में पहली बार नीतीश कुमार के मुख्यमंत्री बनने से लेकर अब तक कमोबेश कायम है। हालांकि, दिलचस्प बात ये भी है कि जदयू जब भाजपा के साथ रहता है तो उसका वोट शेयर बढ़ता है, मगर राजद के साथ आने पर वोट शेयर में गिरावट आती है। ये बताता है कि भाजपा वोटरों के लिए नीतीश कुमार स्वीकार्य हैं, लेकिन जदयू वोटरों को राजद स्वीकार्य नहीं है।

आंकड़े बताते हैं कि वर्ष 2005 के अक्टूबर में हुए विधानसभा चुनाव में जदयू को 20.46 प्रतिशत वोट मिले थे, जो वर्ष 2010 के चुनाव में बढ़कर 22.58 प्रतिशत पर पहुंच गये थे। इन दोनों चुनावों के दौरान जदयू और भाजपा साथ थे। वर्ष 2015 का विधानसभा चुनाव जदयू ने राजद-नीत महागठबंधन के साथ मिलकर लड़ा था, तो जदयू को 5.8 प्रतिशत वोटों का नुकसान हुआ था और पार्टी 16.8 प्रतिशत वोट ही ला पाई थी। इसके बाद 2020 के विधानसभा चुनाव में जदयू को लगभग डेढ़ प्रतिशत वोटों का नुकसान हुआ था, लेकिन इसका कारण भाजपा का ‘भितरघात’ और लोक जनशक्ति पार्टी (जो अब दो हिस्सों में बंट चुकी है) का जदयू के खिलाफ चुनाव लड़ना था।

वहीं, लोकसभा चुनावों की बात करें, तो जदयू को साल 2009 के लोकसभा चुनाव में 24.04 प्रतिशत वोट मिले थे। वर्ष 2014 का लोकसभा चुनाव जदयू ने अकेले लड़ा था, तो उसे महज 15.8 प्रतिशत वोट मिले थे, जो पिछले चुनाव के मुकाबले 8.24 प्रतिशत कम थे। वहीं, साल 2019 के लोकसभा चुनाव में जदयू को 22.26 प्रतिशत वोट हासिल हुए थे, जो पिछले चुनाव के मुकाबले 6.22 प्रतिशत अधिक थे। इस बार के लोकसभा चुनाव में जदयू को 18.52 प्रतिशत वोट मिले, जो वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव के मुकाबले लगभग 4 प्रतिशत कम थे।

एक बड़ा वोट बैंक जदयू के साथ क्यों है

ऊपर बताये गये आंकड़ों से पता चलता है कि थोड़े-बहुत अंतरों के बावजूद जदयू के पास अपना एक मजबूत वोट बैंक है। मगर, सवाल ये उठता है कि सार्वजनिक तौर पर अलोकप्रियता के बावजूद जदयू के पास ऐसा क्या है, जो हर बार उसे बिहार में एक महत्वपूर्ण कारक बना देता है और क्यों एक बड़ा वोटर वर्ग पार्टी के साथ जुड़ा हुआ है।

दरअसल, नीतीश कुमार का वोट बैंक गैर यादव ओबीसी (अन्य पिछड़ा वर्ग), अतिपिछड़ा वर्ग, मुस्लिम और महिला हैं, जो अब भी नीतीश कुमार के साथ बने हुए हैं। हाल के समय में जदयू ने यादव वोटरों को भी आकर्षित किया है, जिसके चलते पार्टी के दो यादव उम्मीदवारों दिनेश चंद्र यादव और गिरधारी यादव ने लोकसभा चुनाव में जीत दर्ज की। वहीं, अतिपिछड़ा वर्ग से तीन उम्मीदवारों ने कामयाबी हासिल की।

अतिपिछड़ा, दलित, महिलाओं का जदयू के साथ जुड़ाव को राजनीतिक विश्लेषक राष्ट्रीय जनता दल की राजनीति से जोड़कर देखते हैं।

राजनीतिक विश्लेषक महेंद्र सुमन कहते हैं, “राजद खुद को नये तरीके पेश कर गैर मुस्लिम व गैर यादव वोटरों को भी लुभाने की कोशिश कर रहा है, लेकिन आम लोगों का अब भी यही मानना है कि राजद मुस्लिम-यादव की पार्टी है और इसी के चलते एंटी-मुस्लिम व एंटी यादव ध्रुवीकरण होता है।”

“राजद की कवायदों से यादव व मुस्लिम तो राजद के करीब आ जाते हैं, लेकिन दूसरे वर्ग के वोटर नहीं जुड़ पाते हैं। खासकर अतिपिछड़ी जातियां, अनुसूचित जातियां व महिलाएं राजद के साथ सहज महसूस नहीं करते हैं और इसलिए वे जदयू के साथ जाना पसंद करते हैं,” उन्होंने कहा।

इसके अलावा नीतीश कुमार और लालू प्रसाद यादव की शाषण प्रणालियों की भी अहम भूमिका है।

लालू प्रसाद यादव जब मुख्यमंत्री बने, तो उनका फोकस सामाजिक न्याय और सेकुलरिज्म पर था। उन्होंने अपने शासनकाल में दंगे रोकने और दलितों व पिछड़ों को सामाजिक तौर पर सशक्त करने का प्रयास किया, लेकिन आर्थिक तौर पर सशक्तीकरण पर बहुत जोर नहीं दिया।

इसके उलट नीतीश कुमार जब मुख्यमंत्री बने तो उन्होंने शासन और विकास को कोर इश्यू बनाया। नीतीश कुमार ने दलितों व पिछड़ों को आर्थिक तौर पर सशक्त करने पर फोकस किया। साथ ही स्कूली बच्चियों के लिए साइकिल योजना शुरू कर महिलाओं को भी सशक्त किया।

“आप राजद व भाजपा की रैलियों में उतनी संख्या में महिलाओं को नहीं देखेंगे, जितनी बड़ी संख्या में उन्हें जदयू की सभाओं में देखा जा सकता है। महिलाएं व अतिपिछड़ा वर्ग, इन दोनों ही पार्टियों के साथ सहज नहीं हैं। इन्हीं वजहों से ये वर्ग अब भी जदयू के साथ जुड़े हुए हैं,” महेंद्र सुमन ने कहा।

इसके अलावा एक और वजह भी है, अतिपिछड़ा व दलित वोटरों के जदयू के साथ जाने की। इस रिपोर्टर ने लोकसभा चुनाव के वक्त कई इलाकों में जाकर दलितों व अतिपिछड़ा वर्ग के वोटरों से बात राजद के प्रति उनका नज़रिया जानने की कोशिश की थी। बातचीत में उन्होंने स्पष्ट कहा था कि राजद को वोट देने से पार्टी मजबूत होगी, तो यादवों की गुंडई बढ़ जाएगी और वे उन्हें परेशान करेंगे, इसलिए वे किसी भी कीमत पर राजद को वोट नहीं करेंगे।

दलितों व अतिपिछड़ों में फैले इस डर से राजद नेता तेजस्वी यादव भी वाकिफ हैं इसलिए वे अक्सर अपनी सभाओं में यादवों से अपने मोहल्ले के दलितों, अतिपिछड़ों से मिलकर उनकी मदद करने, मुसीबत में उनके साथ खड़ा होने को कहते हैं। मगर लगता है कि इन अपीलों का जमीन पर असर नहीं हो रहा है। इन वर्गों में यादवों का डर अब भी बना हुआ है। जानकारों की मानें तो यही डर उन्हें नीतीश कुमार के करीब ले जाता है।

सीमांचल की ज़मीनी ख़बरें सामने लाने में सहभागी बनें। ‘मैं मीडिया’ की सदस्यता लेने के लिए Support Us बटन पर क्लिक करें।

Support Us

Umesh Kumar Ray started journalism from Kolkata and later came to Patna via Delhi. He received a fellowship from National Foundation for India in 2019 to study the effects of climate change in the Sundarbans. He has bylines in Down To Earth, Newslaundry, The Wire, The Quint, Caravan, Newsclick, Outlook Magazine, Gaon Connection, Madhyamam, BOOMLive, India Spend, EPW etc.

Related News

पूर्णिया सीट जीतकर तेजस्वी पर बरसे पप्पू यादव, कहा उनके अहंकार ने कोसी, मिथिला में हराया

कटिहार में जदयू प्रत्याशी ने अपने ही नेताओं पर फोड़ा हार का ठीकरा, कहा, “बहुत लोगों के मन में चुनाव लड़ने की इच्छा थी”

पूर्णिया से जीत के बाद बोले पप्पू यादव, “नीतीश कुमार भारत को बचाने के लिये इंडिया गठबंधन के साथ आएंगे”

Bhagalpur Lok Sabha Result 2024: 1,04,868 मतों से विजयी हुए अजय मंडल

Karakat Lok Sabha Result 2024: 1 लाख से अधिक वोट से जीते भाकपा (माले) के राजा राम सिंह

Nawada Lok Sabha Result 2024: भाजपा के विवेक ठाकुर जीते, 67670 वोटों से श्रवण कुमार को हराया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest Posts

Ground Report

अररिया में भाजपा नेता की संदिग्ध मौत, 9 दिन बाद भी पुलिस के हाथ खाली

अररिया में क्यों भरभरा कर गिर गया निर्माणाधीन पुल- ग्राउंड रिपोर्ट

“इतना बड़ा हादसा हुआ, हमलोग क़ुर्बानी कैसे करते” – कंचनजंघा एक्सप्रेस रेल हादसा स्थल के ग्रामीण

सिग्नल तोड़ते हुए मालगाड़ी ने कंचनजंघा एक्सप्रेस को पीछे से मारी टक्कर, 8 लोगों की मौत, 47 घायल

किशनगंज के इस गांव में बढ़ रही दिव्यांग बच्चों की तादाद