Monday, May 16, 2022
- Advertisement -spot_img

CATEGORY

Agriculture

दिल्ली बार्डर पर किसान आंदोलन के छह महीने पूरे हुए तो मनाया गया Black Day

किसानों द्वारा तीन कृषि कानूनों के खिलाफ शुर किए आंदोलन को 26 मई 2021 को छह महीने पूरे हो गए। जिसको देखते हुए किसानों ने केंद्र सरकार के खिलाफ अपनी इस लड़ाई की याद में 26 मई को ‘काला दिवस’ Black day मनाया।

उपमुख्यमंत्री के विधानसभा में गोभी रौंद रहे हैं किसान

बिहार के कटिहार जिले के उदामारहिका के किसान इन दिनों काफी परेशान हैं। कटिहार जिले के सदर विधायक तारकिशोर प्रसाद सूबे के उपमुख्यमंत्री हैं। कभी के किसान के लिए गोभी की फसल काफी लाभदायक हुआ करती थी, लेकिन अब कोभी किसान अपनी किस्मत को रो रहे हैं।

मिथिला मखाना को मिला उसका हक, जाने कैसे होती है खेती

मिथिलांचल की सांस्कृतिक एवं पारम्परिक पहचान मखाना को लेकर कृषि विश्वविद्यालय सबौर ने अंततः "मिथिला मखाना”के नाम पर जीआई टैग लाने की मांग मान ली है।

चुनाव से पहले फिर बनमनखी चीनी मिल खुलने की उम्मीद, मंत्री बोलीं – चुनाव का मुद्दा नहीं

पूर्णिया के बनमनखी चीनी मिल को बंद हुए वर्षों बीत गए और उसमें काम करने वाले कई कर्मी अब नहीं रहे। लेकिन, खंडहरनुमा चीनी मिल हर चुनाव में बड़ा मुद्दा बन जाती है।

मक्का किसानों का दर्द: चार महीने की मेहनत के बाद भी चढ़ गया क़र्ज़

अगर आपका परिवार चार महीने किसी कारोबार में लगा हो, तो आप कितनी कमाई की उम्मीद रखते हैं? चंद हज़ार रुपये तो बिलकुल नहीं, लेकिन 2020 में उम्मीद शब्द बिहार के किसानों के लिए एक मज़ाक है। बिहार के सीमांचल क्षेत्र में मक्के की खेती सबसे ज़्यादा होती है। क्षेत्र के किसान लगभग डेढ़ लाख हेक्टेयर भूभाग में मक्के की खेती करते हैं। लेकिन, लॉकडाउन और मौसम ने किसानों की कमर तोड़ दी है।

मक्का किसानों द्वारा रंगदारी टैक्स नहीं देने पर दियारा में गूंजी बंदूके

मक्का किसानों द्वारा रंगदारी टैक्स नहीं देने पर दियारा में गूंजी बंदूके, कटिहार के कुर्सेला थाना क्षेत्र अंतर्गत बाघमारा दियारा में तैनात पुलिस और अपराधियों के बीच चली 20 राउंड गोली।

Yes Bank ने किसानों को दिया चोट, पैक्स को बेचे गए धान का नहीं मिल रहा पैसा

बिहार: देश की अग्रणी निजी यस बैंक के संकट ने मधेपुरा के धान किसानों को भी अपने आगोश में ले लिया है। जिले के जो किसान पैक्स को धान दिए थे, उस के उचित मूल्य का भुगतान अब तक नहीं हुआ है। किसानों की मानें तो पैक्स द्वारा उन्हें बताया जाता है कि कॉपरेटिव बैंक का खाता Yes Bank में है जिससे अभी कोई लेनदेन नहीं हो रही है, ऐसे में मधेपुरा के किसान परेशान हैं।

Latest news

- Advertisement -spot_img