श्रमिक स्पेशल ट्रेनों में मौत के मामले थमने का नाम नहीं ले रहे है। ताजा मामला अररिया रेलवे स्टेशन का है, जहां श्रमिक एक्सप्रेस से एक महिला के शव को उतारा गया है। मृतक की पहचान रानीगंज थाना क्षेत्र के गीतवास वार्ड नंबर 10 की उषा देवी के रूप में हुई है।

45 वर्षीय उषा देवी का शव / Image: Murshid Reza

जानकारी के अनुसार 45 वर्षीय उषा देवी अपने पति श्रवण कुमार पंडित के साथ लॉक डाउन से पहले अपने बेटी-दामाद से मिलने लुधियाना गए थे। इसी दौरान लॉक डाउन लग गया। रविवार के दिन जब श्रमिक एक्सप्रेस लुधियाना से खुली थी तो वो भी अपने घर लौट रहे थे।

पति श्रवण कुमार पंडित के मुताबिक रास्ते में उषा देवी की सांस फूलने और सर में चक्कर आने के बाद ब्लीडिंग होना शुरू हो गया। ट्रैन में इलाज न होने के कारण उषा देवी ने ट्रेन में ही दम तोड़ दी।

पति श्रवण कुमार पंडित ? Image by Murshid Reza

शव से बदबू आने के बाद अररिया रेलवे स्टेशन पर जीआरपी-आरपीएफ के जवानों ने शव को किसी तरह उतारा।

घटना की सूचना मिलने पर सदर अस्पताल से एम्बुलेंस मंगवाकर शव को पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेज दिया गया। अब पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आने के बाद ही खुलासा होगा कि उषा देवी की मौत कोरोना से हुई अथवा अन्य कारण से।