पिछले दिनों मां बाप को बिठाकर ठेला चलाते एक बच्चे का वीडियो वायरल हुआ।

दरअसल, ये मासूम बच्चा अररिया के जोकीहाट प्रखंड अंतर्गत चिरह पंचायत स्थित उदाहाट का रहने वाला है। ये वाराणसी से 900 किलोमीटर की दूरी ठेला से नौ दिनों में तय कर मंगलवार को अपने घर पहुंचा है।

11 साल के मो. तबारक ने बताया कि वो चौथी क्लास में पढ़ता है। पिता मो. इसराफील बनारस के राजा कॉलोनी खजूरी में एक मार्बल की दुकान में मजदूरी करते थे। पैर पर पत्थर गिर जाने से घायल हो गए। इसलिए तबारक अपनी मां सोगरा के साथ जोकीहाट से वाराणसी गया था। उसके बाद ही लॉक डाउन हो गया। तबारक ने रास्ते की तकलीफों को बयां करते बताया सैकड़ों लोग रास्ते में जाते दिखते इससे हमारा हौसला भी बढ़ता गया।

पिता मो. इसराफील ने बताया मालिक ने पैर का इलाज करवाया। अचानक लॉक डाउन हो जाने से वापस आने के लिए कोई सवारी नहीं मिली, तो तीनों ठेला से अररिया के लिए निकल पड़े।

मां सोगरा ने बताया तबारक छह बच्चों में पांचवे नंबर पर है। बड़ा बेटा भी तमिलनाडु में मजदूरी करता है और वहीं फंसा हुआ है।